आलस को कैसे दूर करे – आलस दूर करने के उपाय

आलस को कैसे दूर करे : मनुष्य जीवन अनेक महती संभावनाओं से भरा हुआ है , लेकिन बहुत ही कम लोग इसको समुचित दृष्टि से साकार कर पाते हैं । अधिकांशत : प्रतिभा एवं योग्यता होने के बावजूद आधा – अधूरा जीवन जीने के लिए अभिशप्त होते हैं व जीवन , बिना किसी सार्थक आंतरिक – बाह्य उपलब्धि एवं निष्कर्ष के ऐसे ही बीत जाता है ।

इस त्रासदी का मुख्य कारण रहता है – आलस्य , जिसे मनुष्य के सबसे बड़े शत्रु की संज्ञा दी गई है । आलस्य जड़ता एवं बेहोशी का प्रतीक है , जो व्यक्ति को वर्तमान में नहीं जीने देता । इसके आगोश में व्यक्ति या तो बीती यादों की खुमारी में डूबा रहता है या भविष्य के कोरे स्वप्नों में खोया रहता है ।

वह कुछ करना नहीं चाहता । बाहर से देखने पर वह निश्चित , निर्द्वद्व दिख सकता है , लेकिन अंदर से वह इस अवस्था की स्थिरता , शांति एवं चेतनता से वंचित होता है । आलस्य में विघ्न एक आलसी को खलल जैसा प्रतीत होता है । अपनी इच्छा से वह आलस्य से बाहर नहीं निकलना चाहता ।

ऐसे में आलसी उस पुरुषार्थ से वंचित रह जाता है , जो जाग्रत संकल्प से उद्भूत होता है , जो चुनौतियों को अवसर में बदलने का साहस रखता है । जो विषम परिस्थितियों के बीच भी अपना लक्ष्य सिद्ध करना जानता है ।

आलसी में उस जागरूकता का अभाव रहता है , जो सामने आ रहे अवसरों को समझ सके । आगे बढ़ने के मौके सामने आते रहते हैं , लेकिन आलसी मूकदर्शक बनकर इनका लाभ उठाने से चूक जाता है । इस तरह आलस्य की जड़ता में व्यक्ति आंतरिक और बाहरी संभावनाओं को साकार नहीं कर पाता ।

और पढ़े   शीशम के उपयोग व फायदे - Sheesham Benefits In Hindi

आलस्य के कई कारण हो सकते हैं – ( 1 ) बहुत ज्यादा शारीरिक श्रम ( 2 ) मानसिक श्रम से उपजी हुई थकान इनमें से पहले दो कारण तो परिस्थितिजन्य हैं , जिनसे हुए ऊर्जा – क्षय की उचित विश्राम , निंद्रा एवं आहार – विहार के साथ भरपाई हो जाती है , जिसके बाद फिर व्यक्ति आलस्य से उबर जाता है और अपने कार्य में सक्रिय हो जाता है ।

तीसरा कारण व्यक्ति की बिगड़ी आदतों से जुड़ा है , जिन्हें सुधारकर ही ठीक किया जा सकता है । सबसे अधिक घातक होता है स्वभावगत आलस्य , जिससे उबरना अत्यंत कठिन होता , लेकिन असंभव नहीं ।

आलस को कैसे दूर करे – आलस दूर करने का मन्त्र

आलस्य से निपटने के लिए विभिन्न स्तरों पर निम्न तरीकों को अपनाने का क्रम कुछ इस तरह बनाया जा सकता है

हलका आहार लें

( 1 ) हलका आहार लें – भारी आहार आलस्य का प्रमुख कारण रहता है । कहावत भी है कि पेट भारी तो मन भारी । ऐसे में 3-4 घंटों के अंतराल में अपनी स्थिति के अनुरूप हलका आहार लिया जा सकता है । स्वल्पाहार जहाँ पेट को हलका रखता है , वहीं इससे प्राप्त ऊर्जा व्यक्ति को सक्रिय रखती है ।

चहलकदमी करें

( 2 ) चहलकदमी करें – जब काम करते – करते थक जाएँ या आलस्य हावी होने लगे , तो उठकर टहलना आलस्य दूर करने में सहायक होता है । 10-15 मिनट टहलना थकान को मिटाते हुए नवीन ऊर्जा का संचार करता है । साथ ही गहरा श्वास लेने का अभ्यास भी किया जा सकता है ।

पर्याप्त नींद लें

( 3 ) पर्याप्त नींद लें – नींद का पूरा न होना भी आलस्य का एक कारण बनता है । अत : गहरी नींद व्यक्ति को तरोताजा बनाए रखती है व आलस्य का कारण निरस्त हो जाता है । अतः समय पर सोएँ व जागें , दिन में न सोएँ । नींद से पहले विश्राम कर शांतिपूर्वक सोने जाएँ ।

और पढ़े   एसिडिटी क्या है इसके लक्षण , कारण , उपचार। Acidity in Hindi

भरपूर पानी पीएँ

( 4 ) भरपूर पानी पीएँ – पानी की कमी ( डिहाइड्रेशन ) भी आलस्य का कारण बन सकती है । ऐसे में नियमित अंतराल पर जल लेते रहें तथा दिनभर में जल की पर्याप्त मात्रा लें , जिससे कि शरीर के विजातीय तत्त्वों का शोधन होता रहे व व्यक्ति तरोताजा अनुभव करे ।

दिनचर्या रखें संयमित

( 5 ) दिनचर्या रखें संयमित – संतुलित – असंयमित व असंतुलित दिनचर्या आलस्य का एक प्रमुख कारण है ; क्योंकि इससे शारीरिक एवं मानसिक ऊर्जा का क्षय होता है । अतः दिनचर्या को संयमित व संतुलित रखकर हम थकान से बखूबी निपट सकते हैं ।

ताजगी के छोटे – छोटे प्रयोग

( 6 ) ताजगी के छोटे – छोटे प्रयोग – सुबह बिस्तर से उठकर मॉर्निंग वॉक करें । मौसम को देखते ठंढे जल से स्नान कर सकते हैं । आँखों पर ठंढे पानी के छींटे बहुत सहायक होते हैं । मौसम के अनुरूप ताजगीवर्द्धक गरम या ठंढे पेय का सेवन भी किया जा सकता है ।

तनाव का सामना करें

( 7 ) तनाव का सामना करें – तनाव के कारण भी ऊर्जा का भारी क्षय होता है । ऐसे में हलकी – फुलकी गतिविधियों में शामिल रहकर इससे निपट सकते हैं । नियमित योग का अभ्यास कर सकते हैं । मधुर संगीत का श्रवण व मित्रों का संग – साथ भी बहुत सहायक रहता है ।

श्रम की अति से बचें

( 8 ) श्रम की अति से बचें , कार्य को टुकड़ों में बाँटें – जहाँ तक संभव हो कार्य करने का संतुलित तरीका .अपनाएँ । कार्य को बोझ की तरह करने के बजाय व्यवस्थित तरीके से करें । बड़े कार्य को टुकड़ों में बाँटकर बीच – बीच में विश्राम भी लें । साथ ही कार्य को बदलें व इसमें नयापन लाते रहें ।

और पढ़े   Body Builder कैसे बने। बॉडी बिल्डर बनने के लिए क्या करे पूरी जानकारी।

लक्ष्य में रुचि रखें

( 9 ) लक्ष्य में रुचि रखें , मनपसंद कार्य करते रहें आलस्य का एक अहम कारण कार्य के प्रति अरुचि भी है ।

रुचि न होने के कारण व्यक्ति कार्य में टालमटोल करता रहता है , जो आलस्य का एक बड़ा कारण बनता है ।

अतः रुचिकर लक्ष्य को हाथ में लें , या कार्य को रोचक बनाएँ ।आप देखेंगे कि आलस्य कैसे विदा हो जाता है । इस तरह व्यक्ति अपनी स्थिति के अनुरूप रणनीति बनाकर आलस्यरूपी महाव्याधि से निपट सकता है ।

अंतिम शब्द

इस लेख में आपको आलस को कैसे दूर करे – आलस दूर करने के उपाय  इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारिया मिली हमें यकीन है की आप सभी पाठको को यह काफी पसंद होगा

इसी तरह की जानकारी पाने के लिए आप हमसे Facebook के माध्यम से जुड़ सकते है

इन्हे भी पढ़े –

Update on May 23, 2021 @ 6:10 am

Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "

Leave a Comment