नयी शिक्षा नीति 2020 : शिक्षा व्यवस्था में हुआ बड़ा बदलाव , अब नहीं रहेगा परीक्षा का तनाव

0
14
नयी शिक्षा नीति 2020 : शिक्षा व्यवस्था में हुआ बड़ा बदलाव , अब नहीं रहेगा परीक्षा का तनाव

देश की नयी शिक्षा व्यवस्था में इस बार काफी बड़ा बदलाव हुआ है , यह बदलाव 34 साल बाद केंद्र सरकार द्वारा मंजूरी के बाद कराई गयी है। नयी शिक्षा व्यवस्था की नीति की मंजूरी केंद्र सरकार द्वारा बुधवार को दे दी गयी। नयी शिक्षा नीति में काफी स्तर पर बदलाव किये गए है , शुरुवाती शिक्षा को भी बदल दिया गया है ,हायर एजुकेशन के लिए सिंगल रेगुलेटर रहेगा (लॉ और मेडिकल एजुकेशन को छोड़कर)। उच्च शिक्षा में 2035 तक 50 फीसदी GER पहुंचने का लक्ष्य है।

मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम लागू किया जायेगा. अभी की व्यवस्था में अगर चार साल इंजीनियरंग पढ़ने या 6 सेमेस्टर पढ़ने के बाद किसी कारणवश आगे नहीं पढ़ पाते हैं तो कोई उपाय नहीं होता, लेकिन मल्टीपल एंट्री और एग्जिट सिस्टम में 1 साल के बाद सर्टिफिकेट, 2 साल के बाद डिप्लोमा और 3-4 साल के बाद डिग्री मिल जाएगी. जो स्टूडेंट्स के लिए एक अच्छा कदम है.

स्कूली शिक्षा में किया गया बदलाव

स्कूल की शिक्षा में काफी बड़ा बदलाव है , इसमें  करिकुलर 5+3+3+4 लागू किया गया है , इसके तहत 3-6 साल का बच्चा एक ही तरीके से पढाई करेगा , जैसे पहले 1 ही क्लास के बच्चे एक ही तरीके से पढ़ते है , वैसे ही तीन से छह साल के बच्चे एक तरीके से पढ़ाई करेंगे।

READ  Bihar sachivalaya vacancy 2020 : बिहार सचिवालय में वकैन्सी

रिसर्च के क्षेत्र में जाने वालो के लिए हुआ ये बदलाव

जो विद्यार्थी रिसर्च में रूचि रखते हैं उनके लिए विशेष 4 साल का एक डिग्री प्रोग्राम किया जायेगा. और जो जॉब में जाना चाहते हैं उनके लिए  3 साल का ही डिग्री प्रोग्राम किया जायेगा . लेकिन जो रिसर्च में जाना चाहते हैं वो एक साल के एमए के साथ चार साल के डिग्री प्रोग्राम के बाद पीएचडी कर सकते हैं. इसके लिए एमफिल की जरूरत नहीं होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here