परीक्षा में कैसे पास होंगे – How to pass the exam In Hindi

परीक्षा में कैसे पास होंगे – How to pass the exam In Hindi

exam Pass kaise kare जीवन में आगे बढ़ने के लिए कदम – दर – कदम पर हमें परीक्षाएँ देनी ही पड़ती हैं । कुछ परीक्षाओं के बारे में हमें जानकारी होती है , लेकिन कुछ परीक्षाएँ अनजाने में ही हमें देनी पड़ती हैं । इन परीक्षाओं में से कुछ परीक्षाओं में हम सफल होते हैं तो कुछ परीक्षाओं में असफल ।

फिर भी हमारे लिए वो परीक्षाएँ ज्यादा महत्त्वपूर्ण होती हैं , जो हमें देनी पड़ती हैं , जैसे – लिखित परीक्षा , व्यावहारिक परीक्षा , इंटरव्यू , प्रायोगिक परीक्षा आदि । इन परीक्षाओं में पास होने के लिए हम तैयारी करते हैं और यदि उनमें असफल होते हैं , तो दु : खी होते हैं

ईमानदारी और मेहनत के साथ पढाई करे

यदि सफल होते हैं , तो इनकी खुशी मनाते हैं ; लेकिन अंक प्राप्त करने की इन परीक्षाओं के साथ – साथ ही हमारे व्यक्तित्व की भी यह परीक्षा होती है कि हम कितनी मात्रा में अपने तनाव , चिंता , परेशानी , गुस्सा आदि को व्यवस्थित कर पाते हैं ।

यदि इन्हें आसानी से व्यवस्थित कर पाते हैं , तो हम अपनी पढ़ाई को भी व्यवस्थित कर लेते हैं और यदि इन्हें व्यवस्थित नहीं कर पाते , तो अपनी पढ़ाई में ठीक से सफल नहीं हो पाते । इसके साथ ही हम कितनी ईमानदारी के साथ पढ़ाई करते हैं और परीक्षा देते हैं , यह भी महत्त्वपूर्ण है और यह हमारी परीक्षा का ही एक अंग है । जो लोग पढ़ाई नहीं करते , वे फाइनल परीक्षा में पास होने के लिए शॉर्टकट अपनाने की कोशिश करते हैं व नकल करने की कोशिश करते हैं ।

वे उन प्रश्नों को ही तैयार करते हैं , जिनकी परीक्षा में आने की अधिक संभावना होती है , बाकी प्रश्नों को वे छोड़ देते हैं । ऐसे लोग केवल परीक्षा में पास होने के लिए पढ़ाई करते हैं , लेकिन जो ईमानदारी के साथ मेहनत करते हुए पूरे वर्ष भर पढ़ते हैं ,

वे परीक्षा में केवल पास होने की तैयारी नहीं करते , बल्कि परीक्षा में अधिक – से – अधिक अंक प्राप्त करने की कोशिश भी करते हैं और कभी – कभी उनकी यह ईमानदार कोशिश रंग भी लाती है । किसी भी विद्यार्थी के लिए परीक्षा का समय बहुत महत्त्वपूर्ण होता है ।

और पढ़े   Computer Basic Knowledge In Hindi - कंप्यूटर की बेसिक जानकारी

तनाव और चिंता से दूर रहे

उस समय यदि उसका मानसिक संतुलन बना रहता है व ठीक ढंग से पढ़ पाता है , अपने तनाव , चिंता को व्यवस्थित करने के साथ – ही – साथ समय को ठीक ढंग से व्यवस्थित कर पाता है , तो वह अपनी परीक्षा में सफल होता है ।

दुर्भाग्यवश कुछ विद्यार्थी इस समय प्रायः तनाव में आ जाते हैं । इस तनाव के कारण उनके स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है , जिसके कारण वे कभी – कभी बीमार भी हो जाते हैं और सालभर पढ़ने के बावजूद परीक्षा के समय वे ठीक से पढ़ नहीं पाते और इसका असर उनके परीक्षा परिणामों पर दिखने लगता है ।

निराश न हो

प्रायः हर विद्यार्थी के लिए उसकी परीक्षा बहुत महत्त्वपूर्ण होती है , वह उस परीक्षा को पास करके आगे बढ़ना चाहता है और जब वह ऐसा नहीं कर पाता , तो वह निराश हो जाता है । यह निराशा तब और बढ़ जाती है , जब उस परीक्षा को पास करने की दोबारा कोई संभावना न हो , लेकिन इसके बावजूद याद रखना चाहिए कि कोई भी परीक्षा जीवन की अंतिम परीक्षा नहीं होती ।

अपेक्षाएं कम रखे

हर परीक्षा के बाद दूसरी परीक्षा हमारा इंतजार कर रही होती है और इसके लिए हमें तैयार रहना चाहिए । हमें यह समझना चाहिए कि परीक्षाओं से जुड़ी हुई ज्यादा अपेक्षाएँ ही हमें तनाव देती हैं और हमें तब दुःखी करती हैं , जब हम उन अपेक्षाओं में खरे साबित नहीं होते ।

अपेक्षाएँ जितनी कम होंगी , उतने ही हम कम दुःखी होंगे । जहाँ तक परीक्षा में पास होने या सफल होने का सवाल है , . तो यह पूरी तरह से हमारे नजरिए और प्रयास पर निर्भर । करता है ।

हमारा नजरिया जितना व्यापक होगा , उतनी ही गहराई से हम चीजों को समझ पाएँगे और उनमें सफल भी हो पाएँगे ।

अक्सर लोग अपनी जिंदगी में बड़ी – बड़ी ख्वाहिशें पाल लेते हैं , आगे बढ़ने के लिए बड़ी – बड़ी मंजिल तय करने का निश्चय कर लेते हैं , लेकिन उस समय वे न तो ऐसा करने के लिए अपनी क्षमता का आकलन करते हैं और न ही ख्वाहिश व मंजिल के अनुरूप उन पर आगे बढ़ पाते हैं । ऐसे में अपेक्षा के अनुरूप सफलता उन्हें नहीं मिल पाती ।

और पढ़े   [ BPSC FULL FORM ] BPSC की तैयारी कैसे करे ?

अधिक से अधिक जानकारी जानने की कोशिश करे

इस बात को समझाने के लिए एक छोटा – सा कहानी है –

एक बार अकबर की बेगम उनसे रूठ गईं । अकबर ने इस तरह रूठने का जब उनसे कारण पूछा तो उन्होंने कहा ” मेरा भाई सेना में मेहनत और जोखिम का काम कर रहा है और आप यहाँ बीरबल को मंत्री बनाए बैठे हैं । अब आप मेरे भाई को मंत्री बनाइए । ” इस पर अकबर ने युक्ति से काम लिया ।

बेगम साहिबा को सीधा जवाब देने के बजाय उन्होंने अगले दिन बेगम के सामने ही अपने साले साहब को बुलाया और उससे कहा- ” अमुक बंदरगाह पर एक जहाज आया है , तुम वहाँ जाकर यह पता लगाओ कि वह जहाज कहाँ से आया है और वह किसका है ? ” इसके बाद अकबर ने यही कार्य बीरबल को भी दिया । कुछ दिनों के बाद दोनों के बंदरगाह से वापस लौटने की सूचना मिली ।

अकबर ने बेगम के सामने ही दोनों को अपने पास बुलवाया । सबसे पहले उन्होंने अपने साले से जहाज के बारे में जानकारी देने को कहा । साले साहब ने बताया कि जहाज श्रीलंका से आया है और यह जहाज बैजू सेठ का है ।

जब अकबर ने अपने साले साहब से यह प्रश्न किया कि यह जहाज कहाँ जा रहा है ? तो उसने जवाब दिया कि आपने इतनी ही जानकारी मांगी थी , इसलिए मैं केवल उन्हीं के बारे में पता लगाकर आया हूँ । अब अकबर ने बीरबल से बंदरगाह के जहाज के बारे में जानकारी देने को कहा । बीरबल ने कहा- ” जहाज श्रीलंका से आ रहा है , बैजू सेठ का है । उसमें कीमती रत्न व आभूषण लदे हैं ।

और पढ़े   Game Developer Kaise Bane - गेम डेवलपर कैसे बने

जहाज मायानगरी जाएंगा । सेठ 1000 स्वर्णमुद्राओं का राजस्व अदा कर चुका है । ” बीरबल का जवाब खतम होने पर अकबर ने बेगम की ओर देखा , तो उनकी नजरें झुकी हुई थीं और उन्हें अपनी भूल का एहसास हुआ ।

यहाँ पर परीक्षा कोई अंक प्राप्त करने की नहीं थी , बल्कि यह बीरबल और अकबर के साले साहब की एक व्यावहारिक परीक्षा थी , जिसमें बीरबल उत्तीर्ण हुए । सवाल का जवाब तो दोनों ने दिया , दोनों ने प्रश्न का उत्तर खोजने के लिए बंदरगाह तक जाने के लिए बराबर दूरी तय की , दोनों का जवाब भी सही था , लेकिन प्रश्न से संबंधित उपयोगी जानकारी बीरबल की थी ।

हड़बड़ी न करे

इसलिए उनका पद भी ऊँचा व महत्त्वपूर्ण था । देखा जाए तो परीक्षा के सवाल या जीवन की समस्याएँ मकड़ी के जाल व उलझे हुए धागे की तरह होते हैं । वास्तव में वे उतने जटिल नहीं होते , जितना हम अपनी अनुभवहीनता या हड़बड़ी में उन्हें बना बैठते हैं ।

अतः इन्हें सुलझाने के लिए पहले उसकी उलझन को समझना और उसे सुलझाने वाले सिरे को तलाश करना बहुत जरूरी है । जीवन की परीक्षाएँ कभी भी ढर्रे पर चलकर नहीं , नकल करके नहीं , बल्कि होश के साथ , सूझ – बूझ व समझ के साथ दी जाती हैं और तभी इन परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने का आनंद भी आता है ।

दोस्तों यदि आपने आज का यह पोस्ट परीक्षा में कैसे पास होंगे – How to pass the exam In Hindi को पूरा पढ़ा तो आपसे निवेदन है इसे अपने दोस्तों एवं परिजनो के साथ Facebook , whatsapp के जरिये जरूर शेयर करे। हम ऑनलाइन के माध्यम से हमेसा नयी नयी जानकारिया लाने की कोशिश करते रहते है

इन्हे भी पढ़े

Update on May 18, 2021 @ 2:51 am

Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "

Leave a Comment