आतंकवाद पर निबंध हिंदी में। Aatankwad Par Nibandh Hindi Mein

आतंकवाद पर निबंध

आतंकवाद पर निबंध हिंदी में। Aatankwad Par Nibandh Hindi Mein

भूमिका – आतंकवाद एक तरह की हिंसात्मक गतिविधि है जिसे किसी खास मकसद के लिए संबंधित व्यक्ति या संगठन संचालित करता है । इसके मूल में उस व्यक्ति या संगठन का कोई आर्थिक , राजनीतिक , धार्मिक एवं सामाजिक हित छुपा होता है । आज भारत समेत संपूर्ण विश्व इसके शिकंजे में जकड़ चुका है । अमेरिका , रूस , ब्रिटेन आदि सभी विकसित व विकासशील के विकास के पहिए को इसने जाम कर रखा है ।

( ii ) आतंकवाद के कारण – सूक्ष्म रूप से गहराई के साथ यदि हम देखें तो पाते हैं कि आतंकवाद के तिक , धार्मिक व आर्थिक कारण मुख्य हैं । आज कई देश , खासकर पाकिस्तान जैसे देश अपने राजनीतिक व धार्मिक लाभ के कारण आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं । वे इसके नाम पर विकसित राष्ट्र से आर्थिक लाभ भी लेते रहे हैं जिसके कारण आर्थिक कारण भी इसके मूल में हैं । गरीबी भी इसके सहायक तत्व हैं क्योंकि गरीब युवा पैसे के लालच में आतंकवादी संगठन ज्वाइन कर लेते हैं । बेरोजगारी को भी इसके प्रसार का कारण माना जा सकता है । आतंकवादी संगठन बेरोजगार युवाओं को तरह – तरह का झांसा देकर अपना संगठन ज्वाइन करवाते हैं और अपने एजेंडे की पूर्ति के लिए उन्हें दुश्मन देशों में आतंक फैलाने के लिए भेज देते हैं । इसके अलावा धार्मिक रूढ़ि व पूर्वाग्रह भी इसका एक बड़ा कारण है ।

( iii ) आतंकवाद से निदान – आतंकवाद से यदि निजात लेना है तो सर्वप्रथम उसके विरुद्ध कठोर कार्रवाई करते हुए संबंधित व्यक्ति को कठोर से अथवा कठोर सजा सुनिश्चित करनी होगी । साथ ही देश में समान नागरिक संहिता भी लागू करनी चाहिए । देश में शिक्षा का स्तर बढ़ाने के साथ – साथ रोजगार , सृजन भी करना होगा क्योंकि एक कहावत भी है कि खाली दिमाग शैतान का घर होता । खाली और बेरोजगार युवाओं को ही आतंकवादी संगठन निशाना बनाते हैं । साथ ही संबंधित देश पर भी कड़ी कारवाई करते हुए प्रतिबंध लगाना चाहिए ।

( iv ) निष्कर्ष – इस प्रकार आतंकवाद आज एक बड़ी वैश्विक समस्या बन गया है जिसका समय रहते सभी प्रभावित देशों को उचित कदम उठाना महत्व चाहिए ।

Aatankwad Par Nibandh Hindi Mein

आतंकवाद आज राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय ज्वलंत समस्या बन गया है । यह विश्व के लिए कोई नया शब्द नहीं बल्कि भारत , इजरायल , अरब राष्ट्रों , फिलिस्तीन आदि देशों में पूर्व से ही प्रयुक्त किसी भी दिन का समाचार – पत्र ऐसा नहीं रहेगा जिसमें आतंकवादी गातिविधियों की कारनामा सुर्खियों में न हो । आज इस समस्या को समाप्त करने के लिए हर संभव उपाय सफल नहीं पा रहा है । आतंकवाद शब्द का आशय है – एक ऐसी नई राह बनाना जिस पर चलने से समाज एवं राष्ट्र में भय , आतंक की स्थिति व्युत्पन्न हो जाए और इन गतिविधियों के सामने शासन तंत्र घुटना टेक दे ।

आतंकवादी गतिविधियों की पृष्ठभूमि में पूँजीवादी देशों की सहायक भूमिका को प्रमुख माना जा रहा है । आतंकवादी पूँजीपतियों और सेठ – साहूकारों की कहीं हत्या कर रहे हैं तो कहीं विमान का अपहरण । कहीं बम विस्फोट की जा रही है । आज कोई भी विवेकशील , समझदार , बुद्धजीवी व्यक्ति इसे कदापि पसन्द नहीं करेगा । हानियों के अलावे इससे लाभ की आशा नहीं की जा सकती । समकालीन समय में पूरा विश्व आतंकवाद के खिलाफ एकजुट है । यदि कोई राष्ट्र आतंकवाद को प्रश्रय दे रहा है तो उसे आतंकवादी राज्य घोषित कर उसे बर्बाद कर दिया जा रहा है । 11 सितम्बर 2001 को विमान अपहरण करके न्यूयार्क स्थित ‘ विश्व व्यापार केन्द्र ‘ को ध्वस्त कर दिया गया , तब अमेरिका जैसे पूँजीवादी राष्ट्र की नींद खुली । यह विश्व व्यापार केन्द्र संसार का सबसे बड़ा भवन था ।

इस घटना में देश – विदेश के अनेकों लोग मारे गए जिसमें अधिकतर भारतीय थे । इस घटना के बाद स्वयं अमेरिका ने आतंकवाद को पूरे विश्व से समूल नाश करने की वीणा उठाई है । आतंकवाद को नियंत्रित करने के लिए सरकार और जनता के बीच आपसी सशक्त सहयोग साहचर्य होना चाहिए । कानून और न्याय व्यवस्था में भी सुधार की आवश्यकता है जिससे आतंकवादियों के प्रति कठोर कार्रवाई की जा सके । आतंकवाद को समस्या का समाधान आतंकवादियों को मारने से नहीं , अपितु उसके जड़ों पर प्रहार करने से होगा । युवाओं में व्याप्त असंतोय के कारणों को खोजकर उन्हें दूर करना होगा । सरकार को चाहिए कि वह आतंकवादी संगठनों से बातचीत करते हुए राष्ट्रहित में इसे पूरा करने की कोशिश करें ।

आतंकवाद पर निबंध

आप कोई भी समाचार पत्र हाथ में लीजिए , मोटे – मोटे लक्षरों में अपहरण , हत्या .. लूट , व्यभिचार , बमों के धमाके आदि के समाचार अवश्य पढ़ने को मिलेगे । इस कारण सम्पूर्ण देश में भय का वातावरण बन गया है । आज कोई भी सुरक्षित नहीं है । इसी असुरक्षा एवं कानून की धज्जियाँ उड़ाने का नाम आज ‘ आतंकवाद ‘ है । इस आतंकवाद की जड़ में असंतोष , राजनैतिक स्वार्थ , प्रशासनिक भ्रष्टाचार , धार्मिक उन्माद आदि है । ‘ उग्रवाद ‘ भी उसी का छोटा भाई है । आतंकवाद हमारे समाज में पनप रही वह दीमक है , जो सम्पूर्ण समाज को खोखला करने में सक्षम है ।

आतंकवाद जहर की भाँति पूरे देश में फैल रहा है । इसने हमारे जीवन में सुख , चैन , शान्ति छीन लिए हैं और हमारे अन्दर एक अजीब – सी दहशत पैदा कर दी है । हमारे देश में आतंकवाद से पहले पंजाब जल रहा था , आज कश्मीर जल रहा है , दिल्ली जल रही है , असम , नागालैंड , बिहार आदि जल रहे हैं । आतंकवाद से केवल भारत ही नहीं , वरन् सम्पूर्ण विश्व आक्रांत एवं त्रस्त है

। आतंकवादी आधुनिक अस्त्र – शस्त्रों से लैस है । उन्हीं अस्त्र – शस्त्रों के बल पर वे लोगों को आतंकित करते हैं । ये आतंकवादी कभी हवाई जहाज का अपहरण कर लेते हैं , तो कभी ट्रेन को ही उड़ा देते है । कभी सुरक्षाबल शिविरों पर बमों के धमाके करते हैं , तो कभी मुम्बई , दिल्ली जैसे महानगरों में विस्फोट । अभी हाल में दिल्ली में तीन स्थानों पर लगातार तीन भयंकर धमाके हुए । आतंकवादियों के समक्ष किसी के जीवन – मरण का कोई मूल्य नहीं ।

आतंकवाद आज विश्वभर के लिए एक भयंकर चुनौती बन गया है । आज विश्व के अनेक देशों में विभिन्न खूखार आतंकवादी गुट सक्रिय हैं । उन्हें वहां की सरकारों का भी संरक्षण प्राप्त है । 11 सितम्बर , 2001 को अलकायदा नामक एक खूखार आतंकवादी गुट द्वारा अमेरिका के ट्वीन टावर को बमों से उड़ा दिया गया ।

आतंकवाद का यह सब अत्यन्त घिनौना रूप है । आतंकवादी इस प्रकार के अमानवीय एवं असामाजिक क्रिया – कलापों में इसलिए लिप्त रहते है ताकि वे राष्ट्रीय सरकार या विश्व समुदाय का ध्यान किसी समस्या पर केन्द्रित कर सके तथा अपनी उचित – अनुचित मांगों को मनवा सके । आतंकवाद जैसी समस्या का समाधान राष्ट्रीय एवं अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर होना चाहिए ।

आतंकवाद की भर्त्सना विश्व नेताओं द्वारा की जा रही है और इस समस्या से निपटने के लिए अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर प्रयास भी किए जा रहे है । पर , आतंकवाद को समूल नष्ट करने के लिए लोगों में दृढ़ आत्मबल एवं पारस्परिक संगठन आवश्यक है । इसके साथ ही मार्गभ्रष्ट लोगो को मनोवैज्ञानिक रीति से सन्मार्ग पर लाना होगा ।

आतंकवाद पर निबंध पीडीऍफ़
आतंकवाद पर निबंध pdf download
अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद पर निबंध
आतंकवाद पर निबंध drishti ias
कश्मीर में आतंकवाद पर निबंध
आतंकवाद और मानवता पर निबंध इन हिंदी
aatankwad par nibandh hindi mein
aatankwad ki samasya par nibandh hindi mein
bharat mein aatankwad par nibandh in hindi