Biochemistry Kya Hai – बायोकेमिस्ट्री में करियर कैसे बनाये ?

Biochemistry Kya Hai चिकित्सा विज्ञान तेजी से प्रगति कर रहा है। प्रौद्योगिकी के समावेश ने चिकित्सा विज्ञान की तस्वीर बदल दी है।

जहां नैनोटेक्नोलॉजी से कैंसर का इलाज खोजने का प्रयास किया जा रहा है, वहीं दूसरी ओर बायोटेक्नोलॉजी, बायोइनफॉरमैटिक्स आदि से चिकित्सा क्षेत्र को एक नई पहचान मिली है।

ऐसे में चिकित्सा क्षेत्र को एक नई पहचान मिली है। ऐसे में चिकित्सा के क्षेत्र में जैव रसायन भी एक नए विषय के रूप में उभरा है।

Biochemistry Kya Hai ? बायोकेमिस्ट्री क्या है ?

Biochemistry In Hindi जैव रसायन ( Biochemistry ) विज्ञान की एक शाखा है। यह जीव विज्ञान और रसायन विज्ञान का मिश्रण है, जो जैविक प्रक्रिया के दौरान होने वाली रासायनिक प्रतिक्रियाओं के माध्यम से जीवन प्रक्रिया को समझने का प्रयास करता है।

रसायन विज्ञान के अलावा, विकास, चयापचय, प्रजनन और आनुवंशिकता जैसी जैविक प्रक्रियाओं का भी जीवित दुनिया पर पर्यावरण के प्रभावों का अध्ययन किया जाता है।

एंजाइम, प्रोटीन, चयापचय प्रक्रियाओं, कार्बोहाइड्रेट, वसा आदि की संरचना और कार्य के अलावा, जैव रसायन डीएनए की आणविक संरचना का अध्ययन करता है।

बायोकेमिस्ट्री के क्षेत्र

जैव रसायन का क्षेत्र बहुत विस्तृत है। बायोकेमिस्ट दवा, कृषि और पोषण के क्षेत्र में शोध कार्य करते हैं। चिकित्सा के क्षेत्र में, जैव ध्वनिकी नैदानिक परीक्षणों और विभिन्न परीक्षणों के माध्यम से रोगों के कारणों का पता लगाते हैं।

वे मुख्य रूप से आनुवंशिक संचरण का अध्ययन करते हैं। फसलों की नई और बेहतर किस्मों का विकास, कीट नियंत्रण प्रबंधन और फसलों का सुरक्षित भंडारण सुनिश्चित करना भी जैव रसायन के अंतर्गत आता है।

जिसकी मदद से यह फसल की गुणवत्ता और उपज में सुधार करने में मदद करता है। वहीं बायोकेमिस्ट यह भी अध्ययन करते हैं कि शरीर में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन और विटामिन का अनुपात कितना होना चाहिए। कोर्स इस कोर्स में ग्रेजुएशन लेवल पर एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार को साइंस स्ट्रीम से 12वीं पास होना चाहिए।

और पढ़े   Smaran shakti Kaise Badhaye - स्मरण शक्ति कैसे बढ़ाये

बायोकेमिस्ट्री में करियर कैसे बनाये ?


12वीं के बाद वे बीएससी बायोकेमिस्ट्री कर सकते हैं। उच्च शिक्षा में रुचि रखने वाले एमएससी और पीएचडी स्तर पर भी अध्ययन कर सकते हैं।

एमएससी बायोकैमिस्ट्री चार सेमेस्टर का दो साल का कार्यक्रम है। यह बायोऑर्गेनिक केमिस्ट्री, बायोफिजिकल केमिस्ट्री, ह्यूमन साइकोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी, एंजाइमोलॉजी, इम्यूनोलॉजी, बायोएनेरगेटिक्स और बायोएनेरगेटिक्स और बायोमेम्ब्रेन पर जानकारी प्रदान करता है।

इसके अलावा जीव विज्ञान, नैदानिक ​​जैव रसायन और आणविक जीव विज्ञान के कंप्यूटर अनुप्रयोगों के बारे में बताया जाता है।

कुछ वैकल्पिक विषय जैसे बायोस्टैटिस्टिक्स, न्यूरोकैमिस्ट्री, बायोमोलेक्युलर मॉडलिंग, क्लिनिकल इम्यूनोलॉजी आदि पाठ्यक्रम के दौरान ही पढ़ाए जाते हैं। अ

वसर जैव रसायन विशेषज्ञों के लिए अवसरों की कोई कमी नहीं है। फार्मा उद्योग, अस्पताल, कृषि, अनुसंधान संस्थान, शिक्षा और कई संबंधित क्षेत्रों में इस क्षेत्र के लोगों की जरूरत है।

बायोकेमिस्ट से जुड़े लोगों की रोजमर्रा के क्षेत्रों जैसे चिकित्सा उत्पादों, सौंदर्य प्रसाधन और फोरेंसिक विज्ञान में भी मांग है। जैव रसायन में लोग अस्पतालों, सार्वजनिक स्वास्थ्य, प्रयोगशाला और चिकित्सा अनुसंधान संस्थानों और दवा उद्योग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

बायोकैमिस्ट्री में डिग्री रखने वाले युवाओं को बीज कंपनियों, स्थानीय सरकार, सिविल सेवा और जल प्राधिकरण में भी नियुक्त किया जा सकता है।

रिसर्च स्कूल कॉलेज में अध्यापन के क्षेत्र में मेडिकल, डेंटल और वेटरनरी स्कूल में नौकरी मिल सकती है। दवा उद्योग तेजी से बढ़ रहा है। इस क्षेत्र में जैव रसायन से जुड़े लोगों के लिए भी अपार संभावनाएं हैं।

तो दोस्त! मुझे लगता अब तक आपको Biochemistry Kya Hai – बायोकेमिस्ट्री में करियर कैसे बनाये ? के बारे में बहुत जानकारी मिल चुकी होगी और आशा करता ये पोस्ट पसंद भी आएगी। अगर आपको इस पोस्ट में कोई त्रुटि है या पोस्ट बहुत पसंद तो आप हमारे पोस्ट के comment section में अपनी राय रख सकते हैं। धन्यबाद !

और पढ़े   अलसी के फायदे व गुण - Alsi Benefits In Hindi

Update on July 9, 2021 @ 9:52 am

Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "

Leave a Comment