Search Here

कोलेस्ट्रॉल क्या है , इसके कारण , लक्षण और रोकथाम

कोलेस्ट्रॉल क्या है , इसके कारण , लक्षण और रोकथाम

आज के इस लेख में cholesterol kya hai , कोलेस्ट्रॉल कम करने का रामबाण इलाज , कोलेस्ट्रॉल कैसे बढ़ता है , एच डी एल कोलेस्ट्रॉल क्या है , कोलेस्ट्रॉल में क्या नहीं खाना चाहिए के बारे में जानेंगे।

हानिकारक कोलेस्ट्रॉल का बढ़ना यह भी आधुनिक जीवनशैली का ही रोग है , जिसे खान – पान , रहन – सहन का सुधार , प्राकृतिक जीवनशैली अपनाकर घर पर भी कम कर सकते हैं ।

वस्तुतः मानवरक्त में कोलेस्ट्रॉल दो प्रकार का होता है । एक अच्छा ( गुड ) कोलेस्ट्रॉल दूसरा खराब ( बैड ) कोलेस्ट्रॉल । गुड कोलेस्ट्रॉल को एच.डी.एल. अर्थात हाई डेंसिटी लाइपोप्रोटीन कहते हैं , जबकि बैड कोलेस्ट्रॉल को एल.डी.एल अर्थात लो डेंसिटी लाइपोप्रोटीन कहते हैं । यह सामान्य से अधिक बढ़ता है तो धमनियों में रक्त परिसंचरण में रुकावट होती है ,

इसी कारण हृदयाघात ( हार्ट अटैक ) , उच्च रक्तचाप ( हाई ब्लड प्रेशर ) तथा ब्रेन – स्टोक , पक्षाघात ( पेरालाइसिस ) , किडनी फेल होना जैसी जानलेवा एवं कष्टसाध्य बीमारियों की संभावना रहती है । अच्छा तो यह है कि यह रोग होने के पूर्व ही सावधानी बरतें , जिससे आने वाले कष्टों से बच सकें । रहन – सहन , खान – पान की आदतों में परिवर्तन करना अनिवार्य होता है ।

हानिकारक कोलेस्ट्रॉल बढ़ने के कारण

  1. तले हुए खाद्य पदार्थों का सेवन करना , जिससे रक्त की अम्लता में वृद्धि होना ।
  2. मैदा के बने खाद्य पदार्थों का सेवन करना जैसे – मठरी , कचौड़ी , समोसा , नूडल्स , चाऊमीन , पिज्जा , बरगड़ , ब्रेड , पाव , जलेबी आदि ।
  3. सफेद आटा ( बिना चोकर का ) , सफेद चावल ( पॉलिशवाला ) का सेवन तथा सफेद नमक , सफेद चीनी का अधिक सेवन करना ।
  4. दूध से बनी मिठाइयों का अधिक सेवन करना ।
  5. कृत्रिम मक्खन की टिकिया का प्रयोग करना ।
  6. वनस्पति घी से बने खाद्य पदार्थों का सेवन करना
  7. धूम्रपान , मांसाहार , शराब का सेवन करना ।
  8. मानसिक तनाव , क्रोध , अनियंत्रित गुस्सा करना । इनसे अंतःस्रावी ग्रंथि के स्राव बढ़ने से वसा का चयापचय प्रभावित होता है फलतः कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है ।
  9. फल , सब्जी , चोकर एवं सलाद का सेवन कम करने से रेशा की मात्रा इनमें अधिक होती है रेशा ( फाइबर ) की कमी से ] भी कोलेस्ट्रॉल बढ़ता है ।

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के घरेलू उपाय

  • चोकरयुक्त आटे की रोटी खाएँ । हरी सब्जियों , सलाद एवं फल की मात्रा बढ़ाएँ ।
  • सरसों का तेल ( कच्ची घानी का ) या सूरजमुखी का तेल उपयोग करें , परंतु मात्रा कम ही हो ।
  • हरी पत्तेदार शाक – सब्जी , पत्तागोभी , सफेद कद्दू ( पेठा ) , टमाटर , गाजर , अमरूद , सेब , पपीता , लौकी , खीरा , संतरा , अंगूर का सेवन कीजिए । प्रतिदिन 2 अखरोट , 4 बादाम , 2 अंजीर , 10 मुनक्का पानी में रातभर भिगोए हुए का सेवन कीजिए । इनसे रक्त की क्षारीयता बढ़ेगी ।
  • इसबगोल की भूसी नित्य 5 ग्राम अवश्य सेवन करें । ‘
  • नित्य 5 ग्राम लहसुन , 5 ग्राम अजवायन का सेवन करें । धनिया के बीजों का काढ़ा , गेहूँ के जवारों का रस , करेला का रस , लौकी का रस , पेठे ( सफेद कद्दू ) का रस , खीरे का रस अधिक लाभप्रद होता है ।
  • 50 ग्राम अंकुरित अनाज , 20 ग्राम अंकुरित मेथी , 30 ग्राम अलसी सेंककर नित्य सेवन कीजिए ।
  • रात को देशी चना पानी में भिगोकर रखें ; प्रात : छानकर पानी पिएँ । चना का सेवन उबालकर या सेंककर भी कर सकते हैं ।
  • दोपहर के भोजन के बाद गाय का दही 250 ग्राम ( बिना मलाई का ) लेकर मथ लें , उसमें 2 रत्ती भुनी हींग तथा सेंधानमक या कालानमक स्वादानुसार मिलाकर पिएँ ।
  • हरी सब्जियों में लोवेस्टेटिन नामक फाइटोकेमिकल होता है , जो कोलेस्ट्रॉल घटाने में सहायक होता है । हृदय रोगों से बचाता है , रक्त की अम्लता को कम करता है ।
  • प्रातः की अमृतवेला में प्रसन्नचित्त होकर खुली प्राकृतिक हवा में सैर कीजिए । स्वयं प्रसन्न रहें , दूसरों को भी प्रसन्न रखिए , जिससे अंतःस्रावी ग्रंथियों से स्ट्रेस हॉर्मोन का स्राव न हो तथा हेप्पी हॉर्मोन का स्राव बढ़े , तनाव कम हो ।
  • कपालभाति प्राणायाम अपनी क्षमता एवं अवस्थानुसार उचित मार्गदर्शन में करें ।
  • शारीरिक श्रम को दैनिक जीवन में महत्त्व दें ।
  • अलसी में लेसीथीन होता है , जो रक्त नलिका में कोलेस्ट्रॉल नहीं जमने देता है । अत : अलसी को प्राथमिकता दें ।
  • लौकी का रस 2 माह तक दिन में 2 बार एक – एक कप पीना लाभप्रद होता है ।
  • उपलब्ध फलों का रस प्रतिदिन सेवन कीजिए ।
  • टमाटर का जूस या सूप पिएँ ।

कोलेस्ट्रॉल के उपचार , रोकथाम

  1. प्रातः ठंढा कटिस्नान का 10 मिनट उपचार लेकर प्रात : सैर करें ।
  2. पेट पर मिट्टी की पट्टी या पेट की गरम ठंढी सेंक का उपचार लेने के बाद एनिमा द्वारा बड़ी आँत की सफाई कर लेनी चाहिए ।
  3. सप्ताह में एक दिन धूप – स्नान तथा 2 दिन भाप – स्नान या गीली चादर लपेटकर चिकित्सा लेना लाभप्रद रहेगा ।
  4. गरम – ठंढा कटिस्नान तथा उष्ण पाद – स्नान भी लाभप्रद होता है ।
  5. सप्ताह में एक दिन तेल – मालिश का उपचार देना चाहिए ।
  6. प्रातः उषापान में गरम पानी ( नीबू का रस मिलाकर ) पिएँ । नीबू में नीमोलीन तत्त्व होता है , जो हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करता है । रक्त नलिकाओं की शुद्धि करता है ।

एक विशिष्ट प्राकृतिक नुसखा नीबू का रस एक कप , अदरक का रस एक कप , लहसुन का रस एक कप , ताजी हलदी का रस एक कप , चारों को मिलाकर उबालें और गाढ़ा कर लें ( तीन कप कुल औषधि रहे , तब तक उबालें ) तत्पश्चात ठंढा करके उसमें तीन कप शहद मिलाकर रखें , फ्रीज में भी रख सकते हैं । 2 चम्मच सुबह तथा 2 चम्मच शाम को बराबर मात्रा में पानी के साथ सेवन करें । 2 माह तक नित्य प्रयोग से रक्त नलिकाओं के ब्लॉकेज ( अवरोध ) दूर हो जाते हैं ।

आवश्यक पथ्य – परहेज का नियम बनाए रखें । यह चमत्कारिक लाभ देने वाला प्रयोग है ।

अंतिम शब्द

इस लेख में आपको cholesterol kya hai in hindi इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारिया मिली हमें यकीन है की आप सभी पाठको को यह काफी पसंद होगा

इसी तरह की जानकारी पाने के लिए आप हमसे Facebook के माध्यम से जुड़ सकते है

इन्हे भी पढ़े

Leave a Comment