Deepawali Par Nibandh Hindi Mein | दीपावली पर निबंध हिंदी में

Deepawali Par Nibandh Hindi Mein | दीपावली पर निबंध हिंदी में

दिवाली पर निबंध : Diwali Essay / Nibandh in Hindi [300 Word]

( 1 ) भूमिका – दीपावली अंधेरे पर प्रकाश की विजय का पर्याय है । यह एक प्रकाशपर्व के रूप में संपूर्ण भारतवर्ष में कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है । हिन्दुओं के त्योहारों में यह महत्वपूर्ण स्थान रखता है । दीपावली के अवसर पर साफ – सफाई करने के साथ घरों का रंग – रोगन आदि भी करते हैं । धन तथा ऐश्वर्य की देवी लक्ष्मी की भी पूजा इस अवसर पर की जाती है ।

( ii ) दीपावली की परंपरा- हमारे यहाँ यह मान्यता है कि इसी दिन कार्तिक अमावस्या को भगवान राम ने लंका पर विजय प्राप्त की थी और चौदह वर्षों का वनवास काट कर वे अयोध्या लौटे थे जिसकी खुशी में अयोध्यावासियों ने दीप जलाकर खुशियाँ मनायी थी । तब से दीपावली की परंपरा हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग बन गई और तब से हम सब दीपावली मनाते आ रहे हैं । आज यह विदेशों में भी प्रकाशोत्सव के रूप में मनाया जाता है । दूसरी मान्यता है कि युधिष्ठिर के राजसूय यज्ञ की पूर्णाहुति की प्रसन्नता से इस त्योहार का आरंभ हुआ था । इसके अलावा जैन मतावलंबी इस दिन को भगवान महावीर के निर्वाण दिवस के रूप में मनाते हैं ।

( iii ) दीपावली का महत्व – दीपावली का हमारी सनातन संस्कृति में अत्यधिक महत्व है । यह अंधकार पर प्रकाश एवं अज्ञान पर ज्ञान की विजय के रूप में हमारे देश में मनाया जाता है । दीपावली हमारे जीवन में उमंग और उल्लास का संचार करती है । यह हमें अंधकार से प्रकाश की ओर एवं अज्ञान से ज्ञान की ओर बढ़ने की प्रेरणा देता है ।

( iv ) निष्कर्ष- निष्कर्षत : दीपावली हमारी संस्कृति का अभिन्न और प्रेरणादायी अंग है जो हममें भाईचारा व सामाजिक सौहार्द्र के बीज बोता है । हमें आपस में मिल – जुलकमर खुशियाँ मनाने के अवसर प्रदान करती है ।

दिवाली पर निबंध : Diwali Essay / Nibandh in Hindi [500 Word]

प्रस्तावना : दिवाली भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है कार्तिक मास की अमावस्या को प्रतिवर्ष मनाया जाता है दीपावली को दीपों के त्योहार के रूप में जाना जाता है दिवाली अंधकार पर प्रकाश की जीत का पर्व है 

भारत के हर घर में इस दिन दीपक जलाए जाते हैं हिंदू मान्यताओं के अनुसार कार्तिक मास की अमावस्या को भगवान श्री राम 14 वर्ष का वनवास काटकर तथा रावण का संहार करके अयोध्या लौटे थे 

तब अयोध्या वासियों ने श्री राम के अयोध्या लौटने पर घी के दीपक जलाए थे तब से आज तक इस दिन को दीपावली के रूप में हर साल बड़े धूमधाम से मनाया जाता है

दिवाली क्यों मनाई जाती है 

इस दिन भगवान राम सीता और लक्ष्मण के साथ अयोध्या पहुंचे थे। अयोध्या के ग्रामीणों ने राम, लक्ष्मण और सीताबाई का स्वागत किया और उनके गाँव को उजियारों में सजा दिया। जैन कहते हैं कि यह वह दिन है जब भगवान महावीर ने “मोक्ष या मोक्ष” प्राप्त किया। वे इस प्रकार की प्राप्ति की खुशी में रोशनी दिखाते हैं। आर्य समाज के दयानंद सरस्वती ने भी इसी दिन ‘निर्वाण’ प्राप्त किया था।

यह रोशनी और आतिशबाजी का त्योहार है। यह दुर्गा पूजा के बाद आता है क्योंकि पश्चिम बंगाल में और उत्तर भारत में कुछ अन्य स्थानों पर देवी काली की पूजा दिवाली के दौरान की जाती है। जैसा कि रोशनी अंधेरे को दूर रखती है, देवी काली हमारी दुनिया में बुरी शक्तियों को दूर करती हैं।

इस त्यौहार के लिए महान अपराध बनाए जाते हैं। हर कोई दिवाली से एक महीने पहले व्यवस्था करना शुरू कर देता है, नए कपड़े खरीदे जाते हैं, घरों को साफ किया जाता है और रोशनी, फूलों आदि से सजाया जाता है। लोग अपने करीबी और प्यारे लोगों को बुलाते हैं और बुलाते हैं।

दीपोत्सव मनाने की तैयारियां 

इस त्योहार पर दोस्तों और रिश्तेदारों के बीच मिठाइयाँ बनाई और वितरित की जाती हैं। लोग दिवाली के दिन मौज-मस्ती करते हैं और जमकर मस्ती करते हैं। नए कपड़े युवा और पुराने द्वारा पहने जाते हैं। साथ ही रात के समय आगजनी और पटाखे भी फोड़ दिए जाते हैं। अग्नि-कार्य की तेज लपटें अंधेरी रात में एक उत्तम दृश्य प्रस्तुत करती हैं।

फेस्टिवल एक प्यारा लुक देता है। हर कोई अच्छी तरह से समलैंगिक है और मिस्टफुल कुछ लोग इसे सबसे उत्साही तरीके से मनाते हैं कुछ जुआरी के अनुसार जुए में लिप्त होते हैं, दिवाली त्योहार का एक हिस्सा बनाते हैं।

रात में लोग अपने घरों, दीवारों और छतों को मिट्टी के बर्तनों से रोशन करते हैं। रात के अंधेरे में जगमगाती रोशनी एक विहंगम दृश्य प्रस्तुत करती है। घरों के अलावा, सार्वजनिक भवनों और सरकारी अधिकारियों को भी जलाया जाता है। रोशनी और रोशनी का दृश्य बहुत करामाती है।

उपसंहार – दीपावली का त्योहार सभी के जीवन को खुशी प्रदान करता है। नया जीवन जीने का उत्साह प्रदान करता है। कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं, जो घर व समाज के लिए बड़ी बुरी बात है।

हमें इस बुराई से बचना चाहिए। पटाखे सावधानीपूर्वक छोड़ने चाहिए। इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि हमारे किसी भी कार्य एवं व्यवहार से किसी को भी दुख न पहुंचे, तभी दीपावली का त्योहार मनाना सार्थक होगा।

deepawali par nibandh
deepawali par nibandh english mein
deepawali par nibandh bataye
deepawali par nibandh in english
deepawali par nibandh sanskrit mein
deepawali par nibandh dikhaye
deepawali par nibandh in sanskrit
deepawali par nibandh likhen
deepawali par nibandh 10 line
deepawali par nibandh english me
english mein deepawali par nibandh
sanskrit mein deepawali par nibandh
hindi mai deepawali par nibandh
prakash parv deepawali par nibandh
angreji mein deepawali par nibandh
english me deepawali par nibandh
shubh deepawali par nibandh
dipawali ke tyohar par nibandh
दीपावली का निबंध हिंदी में 20 लाइन
दीपावली पर निबंध इंग्लिश में 10 लाइन
दीपावली पर निबंध चाहिए हिंदी में
दीपावली पर निबंध 20 लाइन
दीपावली का निबंध हिंदी में १० लाइन
दीपावली पर 10 लाइन संस्कृत में
प्रकाश पर्व दीपावली पर निबंध
दीपावली निबंध हिंदी में pdf
दीपावली का निबंध हिंदी में 10 लाइन
दीपावली पर निबंध 150 शब्द
दीपावली पर निबंध कक्षा 6 english
दिवाली पर निबंध class 3