Food Processing क्या है – फ़ूड प्रोसेसिंग में करियर कैसे बनाये

0
8
Food Processing क्या है - फ़ूड प्रोसेसिंग में करियर कैसे बनाये

Food Processing क्या है : Food processing के तहत खाद्य एवं पेय पदार्थों को ताजगी और गुणवत्ता के साथ अधिक लंबे समय तक बनाये रखने का काम एवं उपभोक्ताओं तक उसे सुरक्षित और साफ – सुथरी स्थिति में पहुंचाने का काम आदि शामिल है। इसमें डेयरी(दूध ,पनीर ,butter आदि) , फल एवं सब्जी , अनाज , मांस एवं poltry फॉर्म वाली मछली आदि की processing शामिल है।

ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर शहरों तक में इस क्षेत्र में जॉब के बेहतरीन मौकों के साथ स्वरोजगार शुरू करने के विकल्प भी मौजूद है | Food processing क्षेत्र के लिए बीते पिछले जून २०२० को सरकार की तरफ से एक अच्छी खबर आयी थी। केंद्र सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत ‘ पीएम formalization ऑफ micro Food processing enterprises योजना की शुरुआत की थी। इस skim के तहत 35,000 करोड़ रुपये का निवेश और 9 लाख लोगों को रोजगार देने की तैयारी है। दोस्तों आज हम इस पोस्ट के द्वारा इस Food processing के बारे में बात करने वाले है की कैसे बना सकते है Food processing में करियर और इसके अलावा Food processing क्या है ,कौन कौन से कोर्स करके Food processing में आप अपना करियर कैसे बना सकते है। इस पर भी बात करेंगे।

Food Processing क्या है

Food processing का मतलब होता है खाद्य प्रसंस्करण | खाद्य प्रसंस्करण कृषि उत्पादों को भोजन में , या भोजन के एक रूप को अन्य दूसरे रूपों में बदलना है । Food processing के तहत खाद्य एवं पेय पदार्थों को ताजगी और गुणवत्ता के साथ अधिक लंबे समय तक बनाये रखने का काम एवं उपभोक्ताओं तक उसे सुरक्षित और साफ – सुथरी स्थिति में पहुंचाने का काम आदि शामिल है। इसमें डेयरी(दूध ,पनीर ,butter आदि) , फल एवं सब्जी , अनाज , मांस एवं poltry फॉर्म वाली मछली आदि की processing शामिल है।

खाद्य प्रसंस्करण घर या Food processing उद्योग में प्रयुक्त methods और technologies का इस्तेमाल करके, मानव या पशुओं के consume /उपभोग के लिए कच्चे components /संघटकों(या आप इसे raw material के नाम से जानते होंगे। ) को खाद्य पदार्थ में बदलने या खाद्य पदार्थों को अन्य रूपों में बदलने की प्रक्रिया है। उदाहरण के लिए ,आम तौर पर ऐसा खाद्य प्रसंस्करण में साफ़ फसल या कसाई द्वारा काटे गए पशु उत्पादों को लिया जाता है और इनका उपयोगattractive , marketing योग्य और अक्सर अधिक लंबे समय तक चलने वाले खाद्य उत्पादों के उत्पादन के लिए किया जाता है।पशु चारे के उत्पादन के लिए भी इसी तरह की प्रक्रियाओं का इस्तेमाल किया जाता है।

READ  10th Me Top kaise kare | 10th टॉपर कैसे बनें

फ़ूड प्रोसेसिंग में करियर कैसे बनाये ?

पारंपरिक रूप से Food processing industries Unorganized कार्यबल का उपयोग करती है मतलब बहुत सारा काम तो मशीनो के द्वारा हो जाता है , लेकिन सुपरवाइजरी एवं मैनेजरियल के लिए योग्य पेशेवरों की जरूरत होती है।

Food processing में सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स कर इस इंडस्ट्री में बतौर ट्रेनी या ऑपरेटर शुरुआत कर सकते हैं।

Food processing से संबंधित विषय में आइटीआइ डिप्लोमा करके Food processing या maintainance के कार्यों में operator या ट्रेनी के तौर पर जॉब पा सकते हैं।

होम साइंस भी एक अच्छा जरिया है फ़ूड processing से करियर बनाने का। होम साइंस से graduation एवं nutrition , food technology या , food service management में specialization करके Food processing के इस क्षेत्र में मजबूत करियर बना सकते हैं।

फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया ( FCI ) ,Bacteriologist, Packaging Technology Expert and Biochemistry, Analytical Chemistry, Organic Chemistry आदि में विशेषज्ञता रखनेवालों को जॉब मिलने के बहुत ज्यादा chance होता है।

मॉडर्न फूड कॉरपोरेशन ब्रेड , फ्रूट जूस एवं खाद्य तेलों जैसे उत्पादों के उत्पादन एवं marketing कार्य कर सकने वाले लोगों को सेवा में रखते हैं।

फूड प्रोसेसिंग में अपनी इकाई स्थापित कर स्वरोजगार का भी अच्छा विकल्प है।

Food processing में करियर बनाने के आवश्यक योग्यता

यूजी(under graduate) स्तर के फूड प्रोसेसिंग कोर्स के लिए फिजिक्स , केमिस्ट्री एवं बायोलॉजी में 12 वीं पास होना जरूरी है। आम तौर पर इस कोर्स में एडमिशन के लिए admission प्रवेश परीक्षा के माध्यम से लेना पड़ता है ,बहुत सारे admission enterance एग्जाम उपलब्ध है जैसे मेडिकल या iit jee या gate और बहुत सारी colleges अपना खुद का admission enterance एग्जाम organize करती है।

भारत के विभिन्न कॉलेजों द्वारा संचालित विभिन्न पाठ्यक्रमों के माध्यम से खाद्य प्रसंस्करण सीखा जा सकता है। आप खाद्य प्रसंस्करण में एक विशेषज्ञ बनने के लिए डिप्लोमा, प्रमाण पत्र, डिग्री और डॉक्टरेट पाठ्यक्रम चुन सकते हैं। इस क्षेत्र में प्रदान किए जाने वाले पाठ्यक्रम कॉलेजों / विश्वविद्यालयों के आधार पर अलग-अलग अवधि के होते हैं। इस पाठ्यक्रम के तहत कार्यक्रम नीचे दिए गए हैं:

प्रमाणपत्र पाठ्यक्रम (Certificate Course):

  • खाद्य प्रसंस्करण और संरक्षण में सर्टिफिकेट कोर्स

डिप्लोमा इन Food Processing /Technology :

  • खाद्य प्रसंस्करण में डिप्लोमा
  • खाद्य संरक्षण में डिप्लोमा
  • खाद्य प्रसंस्करण और प्रौद्योगिकी में डिप्लोमा

Graduation इन Food Processing /Technology (तीन / चार वर्ष):

  • गृह विज्ञान / खाद्य प्रौद्योगिकी / खाद्य विज्ञान में बी.एससी
  • खाद्य प्रसंस्करण और प्रौद्योगिकी में B.Tech

मास्टर डिग्री (दो वर्ष):

  • गृह विज्ञान / खाद्य प्रौद्योगिकी / खाद्य और पोषण / जैव प्रौद्योगिकी में एम.एससी
  • गृह विज्ञान / खाद्य प्रौद्योगिकी / खाद्य और पोषण / जैव प्रौद्योगिकी में एम.टेक

डॉक्टरेट इन Food Processing /Technology:

  • खाद्य प्रौद्योगिकी / जैव प्रौद्योगिकी / खाद्य संरक्षण में पीएचडी

बीएससी होम साइंस या कुछ खास segments , जैसे शुगर , एल्कोहल , बेकरी ऑयल , फ्रूट , वेजिटेबल्स आदि में स्पेशलाइजेशन कोर्स कर के इस क्षेत्र में प्रवेश कर सकते हैं फूड प्रोसेसिंग में रिसर्च एवं डेवलपमेंट के क्षेत्र में भी आगे बढ़ सकते हैं . एग्री बायोटेक फाउंडेशन ( एबीएफ ) एग्रीकल्चरल बायोटेक्नोलॉजी में पीएचडी करने का मौका देता है।

READ  ( M.tech course ) एमटेक कोर्स क्या है ? कैसे करे पूरी जानकारी M.tech full form

कुछ कॉलेज निचे दिए है जो Food processing से related कोर्स प्रदान करते हैं:

  • भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़गपुर
  • बी। पंत कृषि और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, पंतनगर
  • राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय, कोटा, राजस्थान
  • एसआरएम यूनिवर्सिटी, डिपार्टमेंट ऑफ फूड प्रोसेस इंजीनियरिंग, गाजियाबाद, यूपी
  • इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी (ICT), मुंबई
  • एमएस यूनिवर्सिटी, वडोदरा
  • बंबई विश्वविद्यालय, मुंबई

इन संस्थानों से भी कर सकते हैं पढाई

सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट ( सीएफटीआरआइ ) – मैसूर यह संस्थान लगभग 300 साइंटिस्ट , इंजीनियर और टेक्नोलॉजिस्ट एवं 400 से अधिक टेक्नीशियन , सपोर्ट स्टाफ और कुशल वर्कर को रोजगार देता। इसमें 16 रिसर्च एवं डेवलपमेंट डिपार्टमेंट हैं , जिनमें फूड प्रोसेसिंग , फूड सेफ्टी , बायोटेक्नोलॉजी एवं माइक्रोबायोलॉजी की विशेष प्रयोगशालाएं भी शामिल हैं . यहां से पीएचडी , फूड टेक्नोलॉजी में एमएससी , फ्लोर मिलिग टेक्नोलॉजी में एक वर्ष का कोर्स संचालित होता है . इसके अलावा यहां से एडवांस्ड प्रोसेसिंग टेक्नीक्स , फूड इंजीनियरिंग , फ्लोर मिलिंग एवं बेकिंग प्रोड्क्टस , फूड पैकेजिंग , फूड सेफ्टी एंड क्वालिटी कंट्रोल , फूड फ्लेवरएवं सेंसरी साइंस , इंस्ट्रूमेंटल एनालिसिस , ग्रेन प्रोसेसिंग , प्रोटीन केमिस्ट्री आदि में शॉर्टटर्म कोर्स कर सकते हैं।

नेशनल एग्रीकल्चर एंड फूड एनालिसिसएवं रिसर्च इंस्टीट्यूट ( एनएएफएआरआइ ) , पुणे : यह संस्थान फूड एनालिटिक्सका एक वर्षीय पार्ट टाइम डिप्लोमा कोर्स कराता है . यह इंस्टीट्यूट एंटरप्रेन्योर डेवलपमेंट प्रोग्राम भी संचालित कस्ता है .

नेशनल डेयरी रिसर्च इंस्टीट्यूट ( एनडीआरआइ ) करनाल : यह देशका प्रमुख डेयरी अनुसंधान संस्थान है . यहा डिप्लोमा इन डेयरी टेक्नोलॉजी , डिप्लोमा इन एनिमल हसबैंडरी एंड डेरीइंग , बीटेक ( डेयरी टेक्नोलॉजी ) , डेरीइंग ( डेरी – उद्योग ) से संबंधित 13 डिसीप्लीन में मास्टर प्रोग्राम एवं डॉक्टोरल प्रोग्राम संचालित होते हैं।

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ क्रॉप प्रोसेसिंग टेक्नोलॉजी ( आइआइसीपीटी ) , तंजावुर : यहां से फूड प्रोसेस इंजीनियरिंग में बीटेक , एमटेक एवं पीएचडी प्रोग्राम एवं फूड साइंस एंड टेक्नोलॉजी में एमटेक कर सकते हैं .

नेशनल शुगर इंस्टीट्यूट , कानपुर , चेन्नई एवं कोलकाता : यह संस्थान शुगर इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी में इंटर्नशिप प्रोग्राम , इंडस्ट्रियल फर्मेंटेशन एंड एल्कोहल ट्रेक्नोलॉजी में डिप्लोमा प्रोग्राम संचालित करता है।

इंडियन एग्रीकल्चर रिसर्च इंस्टीट्यूट आइएआरआइ ) , प्रसा : यहां से एग्रीकल्चर केमिकल एग्रोनॉमी , बायोकेमिस्ट्री , फ्रूट साइंस एंड हॉर्टीकल्चर टेक्नोलॉजी , वेजिटेबल साइंस , वाटर साइंस एंड टेक्नोलॉजी समेत कई अन्य विषयों में एमएससी , एमटेक एवं पीएचडी कर सकते हैं।

फ़ूड प्रोसेसिंग में सैलरी कितनी होगी

आपका salary आपकी शैक्षिक योग्यता, वर्क experience , कौशल और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग में योगदान पर निर्भर करेगा। एक fresher के रूप में, आप 2.5 लाख रु से लेकर  3 लाख प्रति वर्ष रुपये के बीच सैलरी प्राप्त सकते हैं ।  जिन उम्मीदवारों को इस क्षेत्र में अनुभव है, उन्हें वेतन लगभग रु। 5 -6 लाख रु या  8 -10 लाख प्रति वर्ष ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here