fbpx

Leader Kaise Bane – लीडर कैसे बने ? पूरी जानकारी

Leader Kaise Bane

Leader Kaise Bane लीडरशिप या नेतृत्व एक ऐसा गुण है , जिसकी जीवन के किसी – न – किसी मोड़ पर सबको आवश्यकता पड़ती है । जीवन में चाहे – अनचाहे ऐसे पल आ जाते हैं , जब आपको अपने क्षेत्र विशेष में समूह को किसी लक्षित मंजिल की ओर लीड करने का मौका मिलता है ।

Leader Kaise Bane – लीडर कैसे बने ?

नेतृत्व के लिए आवश्यक कई गुणों में सबसे महत्त्वपूर्ण है – सेल्फ लीडरशिप , जो प्रभावी लीडरशिप का आधार है । स्वयं पर न्यूनतम पकड़ व विश्वास को सुनिश्चित करता है , लीडरशिप के प्रति सकारात्मक भाव जगाता है तथा टीम को अपने लक्ष्य की ओर अग्रसर करता है ।

सेल्फ लीडरशिप के गुण को अपनाये

अपनी शक्ति दुर्बलताओं की समझ सेल्फ लीडरशिप का पहला चरण है । – इसी आधार पर अपनी यथास्थति का बोध होता है आत्मसुधार एवं निर्माण का कार्यक्रम तय होता है । स्व जागरूकता से ही हमारा अपनी क्षमता एवं मौलिक प्रतिभा – से परिचय होता है व हमें स्पष्ट होता है कि किन – दुर्बलताओं को अपनी शक्ति में बदलना है व किन शक्तियों को और धार देनी है

अपना लक्ष्य खुद निर्धारित करे

अपनी क्षमताओं के बोध के आधार पर निर्धारित लक्ष्य व्यक्ति को सफलता के मार्ग पर आगे बढ़ाता है , विशिष्ट उपलब्धियों के साथ जीवन में सार्थकता का बोध देता है तथा आत्मविश्वास को बढ़ाता है । जीवनलक्ष्य की स्पष्टता होने के साथ व्यक्तित्व का समग्र विकास सुनिश्चित होता है , जो आगे चलकर सशक्त नेतृत्व का सशक्त व सबल आधार बनता है ।

और पढ़े   [ BPSC FULL FORM ] BPSC की तैयारी कैसे करे ?

सकरात्मक विचारो का चिंतन करे

मन के नकारात्मक भाव जीवन में वैसे ही विचारों की बाढ़ ला देते हैं व स्व नेतृत्व की कसौटी को पग – पग पर चुनौती देते रहते हैं । इनके स्थान पर अनवरत रूप से सकारात्मक विचारों का चिंतन , मनन एवं प्रतिस्थापन सकारात्मक मनोभूमि का निर्माण करता है । इस दिशा में छोटी – छोटी सफलताएँ सेल्फ लीडरशिप के भाव को पुष्ट एवं सशक्त करती हैं । व्यक्ति सकारात्मक ऊर्जा का पुंज बनता चला जाता है ।

सकरात्मक विचारो वाली आस्था में विश्वास करे

सत्य संवेदना को धारण करना सेल्फ लीडरशिप का केंद्रीय तत्त्व है , जिसके मूल में गहन आत्मश्रद्धा एवं ईश्वरीय विश्वास निहित होता है । यही संवेदना सचाई एवं अच्छाई की शक्ति में अडिग विश्वास जगाती है तथा तमाम विषमताओं एवं प्रतिकूलताओं के बावजूद जीवन में सकारात्मक आस्था का दीप जलाए रखती है व आत्मकल्याण एवं लोकहित के पथ पर अग्रसर रखती है ।

( 5 ) जिज्ञासा एवं उदार सोच – जीवन के प्रति जिज्ञासा का भाव व्यक्ति को हर पल एवं हर परिस्थिति से सीखने को प्रेरित करता है तथा उसका व्यक्तित्व नित नए ज्ञान के साथ आलोकित होता है । साथ ही खुलेपन एवं उदारता का भाव व्यक्तित्व को व्यापकता देता है एवं उसे सर्वस्वीकार्य बनाता है । ऐसे में जीवन की चुनौतियाँ आत्मविकास का अवसर बनती हैं व व्यक्ति तमाम प्रतिकूलताओं के बीच निर्धारित गति से अभीष्ट लक्ष्य की ओर गतिशील रहता है ।

( 6 ) ईमानदारी एवं जिम्मेदारी – ये व्यक्ति को स्व अनुशासित करते हैं , उसके आत्मविश्वास को जगाते हैं तथा उसके व्यक्तित्व में विश्वसनीयता एवं प्रामाणिकता को विकसित करते हैं । कहावत भी प्रसिद्ध है कि ईमानदार व्यक्ति एक ऐसा हीरा है , जो हजार मनकों के बीच अलग चमकता है । ईमानदारी जहाँ आंतरिक शांति एवं आत्मबल का आधार बनती है , तो वहीं जिम्मेदारी कर्त्तव्यपालन का संतोष देती है और बृहत्तर जिम्मेदारियों की पात्रता को विकसित करती है ।

और पढ़े   Architecture In Hindi Architecture क्या है पूरी जानकारी

असफलताओ से विचलित्त न हो

बार – बार की असफलताओं , तमाम प्रतिकूलताओं एवं दबावों के बीच जीवनलक्ष्य की ओर बढ़ते रहना अपार साहस एवं धैर्य की माँग करता है । ये गुण व्यक्ति के स्व – नेतृत्व को सबल आधार देते हैं तथा साथ ही जमीनी हकीकत की समझ व्यक्ति को विनम्र बनाती है व प्रभावी नेतृत्व के लिए तैयार करती है । जबकि अधीर मन छोटे – छोटे अवरोधों से ही विचलित हो जाता है तथा व्यक्ति विषम चुनौतियों के सामने नहीं टिक पाता ।

विषय की अच्छी पकड़ और समझ जरुरी है

यह स्व • नेतृत्व का एक ठोस आधार है । कहने की आवश्यकता नहीं कि अपने विषय का ज्ञान व्यक्ति में आत्मविश्वास को विकसित करता है तथा उसकी प्रतिभा को धार देता है । साथ ही आज के तकनीकी युग में तकनीकी कौशल व्यक्ति को आत्मनिर्भर • बनाता है , उसकी कार्यकुशलता को सुनिश्चित करता है तथा • आधुनिक पेशेवर युग में जमाने के साथ कदमताल करने की क्षमता देता है ।

वर्तमान का उपयोग करना सीखे

ह समझ कि आज हम जो कुछ भी हैं , वह हमारे पिछले विचार एवं कर्मों की श्रृंखला का परिणाम है – यह विश्वास जाग्रत करता है एवं सूझ देता है कि हम जो भी कुछ भविष्य में बनना चाहते हैं या करना चाहते हैं , उसे अपने विचारों एवं कृत्यों के आधार पर संभव कर सकते हैं , अर्थात अपने भाग्य विधान की चाबी हमारे ही हाथों में है ।

हमारे वर्तमान का हर विचार , कृत्य एवं संकल्प वह आधार है , जो भविष्य के नए अवसरों एवं सफलताओं का सृजन कर रहा है । इस तरह वर्तमान का श्रेष्ठतम उपयोग स्व – नेतृत्व का एक महत्त्वपूर्ण कारक है , जो समय आने पर प्रभावी नेतृत्व को संभव बनाता है ।

और पढ़े   [ World Radio Day ] विश्व रेडियो दिवस कब और क्यों मनाया जाता है ?

इन्हे भी पढ़े :

Knowledgewap
Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "