Online padhai kaise kare – ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करे ?

आज के इस लेख में हम Online padhai kaise kare – ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करे ? इसके बारे में पूरी जानकारी जानेंगे। उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आये।

ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करें मोबाइल पर

लॉकडाउन , एक ऐसा समय जिसने हमें बहुत कुछ नया सिखा दिया । जीवन की विषम परिस्थिति में रास्ता तलाशना और आगे बढ़ना इस दौर की एक बड़ी सीख होगी । तमाम बदलावों में एक बड़े बदलाव से आपका बच्चा भी गुजर रहा है । वो है , उसकी पढ़ाई ।

शो मस्ट गो ऑन की तर्ज पर अब काफी हद तक स्कूलों ने पढ़ाई शुरू कर दी है । बस अंतर इतना है कि ये पढ़ाई घर बैठे मोबाइल या लैपटॉप की स्क्रीन पर हो रही है । हम इन परिस्थितियों के आदी नहीं हैं , इसलिए हो सकता है आपको और बच्चे को इसमे ढलने में परेशानी हो रही हो। ऑनलाइन पढ़ाई को प्रभावी बनाने के लिए आप कुछ तरीकों को अपना सकती हैं :

दिनचर्या तैयार करें

आम दिनों में घरके सभी सदस्यों की दिनचर्या सुनियोजित होती है । इसी प्रकार बच्चों की पढ़ाई भी आप उसी अनुसार कराती हैं । लंबी छुट्टी के बाद पढ़ाई की गाड़ी पटरी पर तो आ रही है , पर कुछ अलग अंदाज में । आपको भी उसी अनुसार एक नई दिनचर्या तैयार करने की जरूरत पड़ेगी ।

बच्चों की ऑनलाइन क्लास Online padhai के समय अनुसार ही उनके काम को बांटें । जिस प्रकार आप उन्हें स्कूल भेजती थीं , उसी प्रकार अभी भी उन्हें उसी मानसिकता से तैयार करके पढ़ने बिठाएं । इसमें बच्चे के नहाने , भोजन जैसे सभी जरूरी काम क्लास से एक घंटा पहले ही पूरे कर लें ।

बच्चा घर पर ही पढ़ रहा है , इसलिए कोशिश करें कि घर के अन्य सदस्यों की दिनचर्या भी ऐसी हो कि बच्चे को पढ़ाई में परेशानी नहीं हो । होमवर्क को भी सामान्य दिनों की भांति ही अहमियत दें । इसके लिए भी समय निर्धारित करें ।

अनुशासन बनाए रखें

घर का मतलब ये नहीं कि बच्चा मनमानी करेगा । ऑनलाइन क्लास स्कूल में लगने वाली क्लास की तरह ही जरूरी है । इस बाबत साइकोलॉजिकल कंसल्टेंट डॉ . आराधना गुप्ता कहती हैं कि इस मुश्किल वक्त में हमें सबकी मेहनत को सराहने की जरूरत है । शिक्षकों की मेहनत भी मायने रखती है ।

अगर वो समय निकालकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं , तो आपको उनका मान रखना जरूरी है । इस मान के लिए बच्चे को अनुशासन में बांधे ।

ध्यान रखें , जब क्लास चल रही हो तो बच्चा उसे गंभीरता से ले । यह आपकी जिम्मेदारी है कि बच्चा पढ़ाई के वक्त सिर्फ ये बातें आएंगी काम बच्चों को क्लास के आसपास भोजन न कराएं , इससे उन्हें नींद आती है ।

भोजन और क्लास में 45 मिनट का अंतर जरूरी है । क्लास के बीच के अंतर में आप उसे कोई तरल पदार्थ दे सकती हैं । स्क्रीन टाइम के कारण बच्चों में तनाव बढ़ सकता है । इसे दूर करने के लिए कुछ योगासन काम आएंगे । ध्यान बढ़ाने के लिए आप उन्हें नियमित रूप से ध्यान करवा सकती हैं ।

बच्चे के बैठने के स्थान पर हवा और रोशनी का ध्यान रखें ताकि पढ़ाई के दौरान उनकी आंखों पर जोर नहीं पड़े ।पढ़ाई ही करे , मोबाइल पर गेम नहीं खेले । इसके अलावा अनुशासन का सही से पालन कराने के लिए आपको खुद कुछ इंतजाम करने होंगे ।

बच्चे के पढ़ने का अलग ठिकाना बनाएं ।

मेज – कुर्सी का इंतजाम करें । जिस कमरे में बच्चा पढ़ाई करे , वहां शांति का वातावरण बना रहे , इस बात का ध्यान रखें । स्क्रीन टाइम पर ध्यान दें ऑनलाइन क्लास के चलते बच्चों का स्क्रीन टाइम बढ़ गया है । इससे उन्हें तनाव होने की आशंका भी बढ़ गई है । इसे नियंत्रित रखने के लिए बच्चे को बड़ा स्क्रीन इस्तेमाल करने के लिए दें ।

यदि घर में लैपटॉप या एंड्राइड टीवी की सुविधा है तो मोबाइल का इस्तेमाल कम करें । यदि सुविधा नहीं है तो ध्यान रखें कि बच्चा पर्याप्त दूरी पर मोबाइल रखकर उसे इस्तेमाल करे ।

ध्यान रखें कि बच्चा पढ़ाई के अलावा मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करे । मोबाइल गेम्स की लत छुड़वाने के लिए भी यह सही समय है ।

बात आती है होमवर्क की । वो भी अभी मोबाइल पर ही मिल रहा होगा। डॉ.आराधना कहती हैं , इसके लिए आप प्रिंटर की मदद से वर्कशीट का प्रिंटआउट ले सकती हैं । प्रिंटर नहीं है तो खुद बच्चे को बोलकर लिखा सकती हैं । इससे बच्चा मोबाइल देखने से बच जाएगा । ‘

खुद पर रखें नियंत्रण

बच्चा आपके सामने है , इसका मतलब ये नहीं कि आप अपनी ममता क्लास के दौरान उड़ेलें । इस दौरान बच्चे को कुछ भी खिलाने – पिलाने से बचें ।

अगर दो क्लास के बीच कुछ अंतर है , तो उस दौरान आप भले ऐसा कर सकती हैं । इसके अलावा बच्चे पर नाजायजतनाव डालने से भी बचें । जैसे जल्दी जवाब दो , फटाफट लिखो , ये काम नहीं किया , बाकी बच्चे कैसे फटाफट बता रहे हैं ।

बच्चे से इस तरह का बर्ताव करने की जगह आप उसे समझने की कोशिश कर सकती हैं । इससे आपको उसकी कमजोरियों और ताकत के बारे में पता चलेगा , जिसे आप धीरे – धीरे सुधार सकती हैं ।

अगर स्कूल की तरफ से न हो पढ़ाई कई बच्चों की पढ़ाई अभी शुरू नहीं हो पाई है । खासतौर पर नर्सरी स्तर के बच्चों की ।

ऐसे में आप खुद अनुशासित तौर पर इस दायित्व को संभालें । आगे की कक्षा के हिसाब से इंटरनेट से कुछ वर्कशीट्स डाउनलोड कर सकती हैं । यहां आपको वर्कशीट्स के अलावा वीडियो भी मौजूद मिलेंगे ।

अगर बच्चे का दाखिला होना था तो आप घर पर ही उसका हाथ पकड़कर स्लेटिंग , स्लीपिंग , स्टैंडिंग लाइन्स , कर्व आदि बनवाना शुरू करें । स्कूल में भी यहीं से शुरुआत होती है ।

उम्मीद है आपको यह ज्ञानवर्धक जानकारी पसंद आया हो

इस लेख से Online padhai kaise kare – ऑनलाइन पढ़ाई कैसे करे ?  को काफी अच्छे से समझा होगा , आशा करते है , आपकी मनोकामना पूर्ण हो

Leave a Comment

%d bloggers like this: