0

मोहम्मद गौरी को पृथ्वी राज चौहान ने अपने नेत्र को खो देने के बाद भी शब्द भेदी बाड़ से किया था

Changed status to publish