fbpx

शीशम के उपयोग व फायदे – Sheesham Benefits In Hindi

sheesham ke fayde
sheesham ke fayde

आज के इस लेख में हम शीशम के पत्तों के फायदे , शीशम के फायदे ,शीशम का पेड़ in english , शीशम के पत्ते धातु रोग , शीशम पत्ते खाने के फायदे के बारे में जानेंगे।

शीशम की फर्नीचर इत्यादि में उपयोगिता होती है , परंतु औषधीय दृष्टि से भी शीशम की उपयोगिता कम नहीं है । शीशम की तीन प्रजातियाँ होती हैं काली , सफेद और पीली । हमारे भारत देश में यह वृक्ष सर्वत्र होता है । दक्षिण भारत में कम होता है । सड़क के किनारे इसके वृक्ष प्रायः मिल जाते हैं ।

शीशम ( Shisham ) के प्रकार – sheesham types

प्रयोज्य अंग – शीशम की छाल , पत्ते , जड़ । मात्रा – क्वाथ 5 से 10 तोला । कल्क 1 से 3 ग्राम , स्वरस ( पत्ते का रस ) 1 से 4 तोला। सफेद शीशम – कडुआ , शीतल और पित्त एवं जलन दूर करता है ।

भूरे रंग का शीशम – कडुआ , शीतल , वात , पित्त , ज्वर , उलटी और हिचकी दूर करता है । तीनों प्रकार के शीशम बलकारक , रुचि पैदा करने वाले , सूजन , खाज – खुजली , पित्त और दाह को शांत करते हैं ।

शीशम खुजली , शरीर की जलन तथा उपदंश , पेट के रोग , पेशाब की जलन को शांत करने वाला होता है । इसकी जड़ संकोचक होती है । इसके पत्तों का काढ़ा सुजाक की तीव्रावस्था में लाभप्रद होता है । इसके पत्तों का लुआब तिल के तेल में मिलाकर त्वचा पर लगाने से फटी त्वचा ठीक होती है ।

शीशम के उपयोग – use of Sheesham

रक्त प्रदर एवं श्वेत प्रदर में – शीशम के 10-12 पत्तों को पीसकर 10 ग्राम मिसरी , 200 ग्राम पानी के साथ 21 दिनों तक सेवन कराने से लाभ होता है । अधिक ठंढ के दिन हों , तो 1-2 कालीमिर्च पीसकर इस औषधि में मिलाकर सेवन कराना चाहिए । आवश्यक पथ्य – परहेज का भी पूरा ध्यान रखना चाहिए । गरम मसाले , तले खाद्य , चीनी , मैदा , बेसन , चाय , काफी आदि सेवन न करें । फल एवं हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए । ०

और पढ़े   Tanav Se Kaise Bache - तनाव से कैसे बचे

सायटिका में – शीशम की छाल 40 ग्राम कूट पीसकर 250 ग्राम पानी में उबालें ; जब एक – चौथाई पानी शेष रहे ; तब छानकर उसे पुनः चूल्हे पर रखकर उबालकर गाढ़ा कर लें । ठंढा होने पर इसको घृतयुक्त दूध के साथ 10 ग्राम मात्रा में प्रतिदिन 3 बार 21 दिनों तक सेवन करने से चमत्कारी । लाभ होता है । सायटिका के रोगी को खट्टे एवं वातकारक गरिष्ठ ( पचने में कठिन ) पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए । तेल – मालिश भी नियमित करना चाहिए । 10 ग्राम केस्ट्रॉयल रात को सोते समय गरम पानी के साथ पिएँ

आँखों के दरद में – शीशम के पत्तों का रस शहद के साथ मिलाकर अंजन करने से लाभ होता है ।

रक्त विकार में – शीशम की लकड़ी के 500 ग्राम बुरादा को डेढ़ किलो पानी में 8 घंटा भिगोकर रखें तत्पश्चात उबाल लें ; जब पानी आधा शेष रहे ; तब छानकर उसमें देशी खाँड़ या बूरा मिलाकर शरबत की तरह नित्य पीने से रक्त शोधित होता है । यह प्रयोग 40 दिनों तक नियमित करना चाहिए । इस प्रयोग से रक्त विकार , बलगमयुक्त खाँसी तथा अतिरजस्राव एवं खूनी बवासीर में भी लाभ होता है ।

चर्म रोगों में – शीशम का तेल कृमिनाशक होता है । शीशम का तेल प्रायः सभी चर्म रोगों में त्वचा पर लगाने से लाभ करता है ।

फोड़ा – फुसी में- शीशम के 10-15 पत्तों का काढ़ा बनाकर सुबह – शाम 21 दिनों तक पीने से लाभ होता है । ०

रजोरोध ( कष्टार्तव ) में – 10-15 शीशम के पत्तों का काढ़ा 50 ग्राम मात्रा में सुबह – शाम पिलाने से कष्टप्रद मासिकधर्म में लाभ होता है ।

और पढ़े   पपीता के गुण और फायदे - Papaya Benefits In Hindi

स्तनों की सूजन में – शीशम के पत्तों को गरम कर स्तनों पर बाँधने से तथा शीशम के पत्तों की भाप देने से स्तनों की सूजन मिटती है ।

कुष्ठ रोग में – शीशम की लकड़ी का बुरादा 10 ग्राम लेकर 125 ग्राम पानी में उबालें । आधा पानी शेष रहने पर छानकर ठंढा होने पर सेवन कराएँ । सुबह – शाम नित्य सेवन कराने से लाभ होता है ।

सुजाक में – शीशम के पत्तों का काढ़ा बनाकर नित्य 2 बार सेवन कराने से सुजाक की अत्यंत तीव्र पीड़ा दूर होती है । मिर्च एवं तले खाद्य तथा चाय – काफी से परहेज रखें । दूध में पानी मिलाकर मिसरी के साथ शरबत बनाकर दिन में 3 बार सेवन कराएँ ।

मूत्रकृच्छ्र में – नित्य 2-3 बार शीशम के पत्तों का काढ़ा 50 ग्राम पीने से लाभ होता है ।

उलटी में – शीशम के पत्तों का क्वाथ पिलाने से उलटी में आराम होता है ।

अंतिम शब्द

इस लेख में आपको शीशम के उपयोग व फायदे – Sheesham Benefits In Hindi इसके बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारिया मिली हमें यकीन है की आप सभी पाठको को यह काफी पसंद होगा

इसी तरह की जानकारी पाने के लिए आप हमसे Facebook के माध्यम से जुड़ सकते है

इन्हे भी पढ़े

और पढ़े   आलस को कैसे दूर करे - आलस दूर करने के उपाय

Update on May 2, 2021 @ 3:24 pm