Smaran shakti Kaise Badhaye – स्मरण शक्ति कैसे बढ़ाये

Smaran shakti Kaise Badhaye स्मरणशक्ति मानवीय मस्तिष्क की एक ऐसी अद्भुत क्षमता है , जिसके आधार पर व्यक्ति सीखता है , अनुभव प्राप्त करता है और अपने जीवन विकास के लिए प्रयास करता है । यह सच है कि मनुष्य की स्मरण शक्ति की एक सीमा है । वह अपने वर्तमान जन्म की बातें ही याद -रख पाता है ,

विगत जन्मों को स्मरण नहीं कर पाता । -लेकिन कुछ ऐसे उदाहरण यदा – कदा सामने आ जाते हैं , जो यह दरसाते हैं कि व्यक्ति को अपने पूर्वजन्म की बातें भी याद रहती हैं , वह उनका भी स्मरण कर पाता है ।

लेकिन प्रायः व्यक्ति इसी जन्म की बातों व घटनाओं का कम या ज्यादा मात्रा में स्मरण कर पाते हैं , पूर्वजन्म की बातें तो प्रायः भूली – बिसरी ही रहती हैं । स्मरणशक्ति के मामले में किसी – किसी व्यक्ति की स्मरणशक्ति बहुत तीक्ष्ण होती है ।

वे घटनाओं को हू – बहू दोहरा लेते हैं , याद कर लेते हैं । लेकिन किसी – किसी व्यक्ति की स्मरणशक्ति कमजोर होती है , वे घटनाओं को ठीक से याद नहीं कर पाते और जल्दी भूल जाते हैं । याद करने के मामले में किसी को घटनाएँ अच्छे से याद रहती हैं तो किसी को तथ्य याद रहते हैं तो किसी को आँकड़े अच्छे से याद रहते हैं ।

Smaran shakti Kaise Badhaye – स्मरण शक्ति कैसे बढ़ाये

किसी की स्मरणशक्ति किसी क्षेत्र विशेष में प्रगाढ़ होती है तो किसी की स्मृति सामान्य विषयों में प्रगाढ़ होती है । हम जो जीवन जी रहे हैं , जो हमारे रिश्ते – नाते हैं , वो सब स्मरणशक्ति के कारण ही हैं ।

एकाग्रता बनाये रखे

स्मृति – क्षमता बढ़ाने का एक कारगर तरीका है एकाग्रता । किसी भी बात को याद करने के लिए विषय वस्तु पर पूरी तरह से एकाग्र होने की जरूरत है ।

जब हम किसी जगह एकाग्र होते हैं , तो अपने ध्यान को भटकने नहीं देते और अच्छे से कार्य कर पाते हैं । एकाग्र होकर ध्यानपूर्वक किए गए कार्य अपना अच्छा परिणाम देते हैं और उन्हें करने में भी आनंद आता है ।

और पढ़े   What Is Computer In Hindi - कंप्यूटर क्या है हिंदी में पूरी जानकारी

अपनी रूचि का कार्य करे

जब हम अपनी रुचि का कोई कार्य करते हैं तो सहजता से हमारा ध्यान लग जाता है और हम एकाग्र हो जाते हैं , जैसे – जब हम कोई फिल्म देखते हैं या किसी रोचक कहानी की किताब पढ़ते हैं तो सहजता से हमारा ध्यान उसमें लग जाता है , हमारा मन उसमें रम जाता है , फिर समय का ध्यान नहीं रहता ।

इस दौरान घटनाक्रम से लेकर पात्रों के नाम और कहानी आदि सब कुछ हम सहजता से याद कर लेते हैं । वास्तव में जब हम मन से किसी कार्य को करते हैं , फिल्म देखते हैं , उपन्यास पढ़ते हैं या अन्य किसी कार्य में रमे होते हैं तो हम उन्हें याद नहीं करते , बल्कि वे चीजें हमारे स्मृति – पटल से गुजर जाती हैं , हम उस वक्त सिर्फ उन्हें गहराई से देखते व समझते हैं और हमारे मन में उनका चित्रांकन हो जाता है ।

यह चित्रांकन इतना गहराई से होता है कि यदा – कदा वो बातें व दृश्य हमारे स्मृति – पटल पर आ जाते हैं और हम उनकी समीक्षा या चर्चा करते हैं । जब हम अचानक किसी पूर्व घटना या किसी नाम को भूल जाते हैं और उसे जबरदस्ती याद करने की कोशिश करते हैं तो हमारे दिमाग पर दबाव पड़ता है ।

दिमाग पर दबाव न पड़ने दे

जब दिमाग पर किसी तरह का दबाव पड़ता है तो उस समय उस घटना या व्यक्ति का नाम याद नहीं आता , लेकिन जैसे ही हम उसे याद करना बंद कर देते हैं या दूसरे कार्यों में लग जाते हैं , तो वह घटना अचानक हमें याद आ जाती है ; जबकि हम उसे याद नहीं कर रहे होते । कभी – कभी उससे संबंधित किसी घटना या संकेत से भी हम उसे सहजता से याद कर लेते हैं ।

नकरात्मक सोच से दूर रहे

मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि मानसिक दबाव व नकारात्मक सोच हमारी स्मरणशक्ति को सबसे अधिक प्रभावित करते हैं , वहीं सकारात्मक नजरिया हमारी याददाश्त को बढ़ाने में मदद करता है ।

और पढ़े   [ UPSC FULL FORM ] UPSC की तैयारी कैसे करे ?

मल्टी टास्किंग से बचे

एक ही समय पर अलग – अलग तरीके के कार्य करना भी स्मरणशक्ति को कम करता है । शोध अध्ययनों से यह ज्ञात हुआ है कि मल्टी टास्किंग ( कई कार्य एक साथ करना ) व्यक्ति की एकाग्रता को भंग करने के साथ – साथ उसकी याददाश्त में भी कमी लाते हैं । इसके कारण हम अपने सब कार्यों पर पूरी तरह से फोकस नहीं कर पाते , जिससे हमें कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है ।

रटना नहीं सुनना सीखे

स्मृति – क्षमता कमजोर होने का एक कारण वातावरण में मौजूद अस्थिरता है , जिसके कारण स्मृति को पोषित करने वाले मानसिक तत्त्व ( शांति , स्थिरता , एकाग्रता ) व शरीर को पोषित करने वाले पोषक तत्त्व हमें अपने वातावरण से नहीं मिल पाते ।

प्राचीनकाल में याद करने , रटने की कोई प्रथा नहीं थी । केवल सुनकर ही ज्ञान का आदान – प्रदान हो जाता था । लेकिन आज सुनना तो दूर की बात , कई बार रटने से भी तथ्य हमारी स्मृति में नहीं आते । तात्पर्य यह है कि आज स्मृति के लिए रटने की प्रक्रिया भी पूरी तरह से कारगर नहीं है । रटा हुआ भी सही वक्त पर याद नहीं आता और समझने का ज्यादा प्रयास नहीं किया जाता ।

सकरात्मक सोचे

आज के समय व्यक्ति के जीवन में मानसिक तनाव अधिक बढ़ गया है । ऐसी स्थिति में सकारात्मक दृष्टिकोण हमें स्थितियों से उबारता है और हमारी स्मृति को स्वस्थ रखने में मदद करता है । इस तरह स्मरणशक्ति बढ़ाने के लिए मन का सकारात्मक होना , मन का शांत व एकाग्र होना जरूरी है ।

पोषक तत्वों का सेवन करे

हमें अपनी एकाग्रता की प्रवृत्ति को विकसित करने की जरूरत है ; क्योंकि हम जितना अधिक एकाग्रता से किसी कार्य को करेंगे , उतना ही उसे याद रख पाएँगे । इसके साथ ही अपने खाद्य पदार्थों में उन पोषक तत्त्वों व औषधियों के सेवन की भी जरूरत है जो हमारे स्नायुतंत्र को सुदृढ़ बनाने में मदद करें , क्योंकि स्नायुतंत्र का संबंध हमारे मस्तिष्क से होता है और मस्तिष्क का संबंध स्मृति से है ।

और पढ़े   भारत की रहस्यमयी मंदिर - Bharat Ki Rahasyamayi Mandir

स्मरण शक्ति से सम्ब्नधित जानकारी

सामान्यतौर पर 40 की उम्र पार करने के साथ – साथ स्मरण – क्षमता कम होती जाती है , लेकिन अनुभव अधिक होते हैं । एक बच्चे की जितनी स्मरण क्षमता होती है , एक वृद्ध व्यक्ति के पास उतनी नहीं होती ।

यही कारण है कि एक बच्चे के सीखने की क्षमता अन्य उम्र के लोगों से अधिक होती है । स्मृति कम होने पर हम याददाश्त बढ़ाने के तरह – तरह के उपाय करते हैं । स्मरणशक्ति हर कोई बढ़ाना चाहता है ; क्योंकि आज की भाग – दौड़ से भरी जिंदगी में हर किसी को लगता है कि उसकी याददाश्त कमजोर पड़ती जा रही है , फिर चाहे वह विद्यार्थी हो या नौकरीपेशा व्यक्ति या फिर घर में रहने वाला व्यक्ति ही हो ।

याददाश्त में कमी के कारण हर किसी के कार्य प्रभावित होते हैं और लोग अपनी इस कमी को दूर करना चाहते हैं एवं अपनी स्मरणशक्ति को बेहतर बनाना चाहते हैं ।

स्मरणशक्ति के कम होने के कई कारण हो सकते , जैसे – पर्याप्त नींद न लेना , थकान , तनाव , मादक द्रव्यों का सेवन आदि । कार्य का बहुत दबाव होना भी हमारी स्मृति – क्षमता को प्रभावित करता है । इससे हम अपने कार्यों को पूरे मन से , प्रसन्नतापूर्वक नहीं कर पाते और उन कार्यों के दौरान महत्त्वपूर्ण बिंदुओं व तथ्यों को भूल जाते हैं ।

उम्मीद करते है इस लेख से Smaran shakti Kaise Badhaye – स्मरण शक्ति कैसे बढ़ाये को काफी अच्छे से समझा होगा , आशा करते है , आपकी मनोकामना पूर्ण हो

इन्हे भी पढ़े

Update on May 19, 2021 @ 9:48 am

Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "

Leave a Comment