What Is Internet In Hindi – इंटरनेट क्या है पूरी जानकारी

What Is Internet In Hindi : वर्तमान युग दूरसंचार सूचना क्रांति का युग है । यह फैक्स , सेल्यूलर मोबाइल , टेलीफोन , रेडियोपेजिंग आदि भागों से गुजरता हुआ इलेक्ट्रॉनिक मेल ( ई ० मेल ) के उच्च तकनीकी युग में प्रवेश कर गया है । सूचना क्रान्ति के बढ़ने से एक नए अन्तरिक्ष की परिकल्पना की गई जिसे साइबर स्पेस कहा गया । इसमें कम्प्यूटर सूचनाएँ व इनका आदान – प्रदान भरा होता है ।

साइबर स्पेस को अधिकांशतः सूचना राजपथ ( इन्फॉर्मेशन हाईवे ) के नाम से पुकारा जाता है । सूचना राजपथ या इलेक्ट्रॉनिक मेल के वर्तमान में विभिन्न प्रकार के घटक हैं जिनमें प्रमुख हैं— इंटरनेट , इण्डोनेट , सर्नेट , निकनेट , अर्नेट व सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पर्ल आदि । फैक्स का स्थान भी ई – मेल लेता जा रहा है । इंटरनेट तकनीक का व्यापक उपयोग ई – मेल के रूप में होता है । कम्प्यूटर पर संदेश भेजने का कार्य इसके द्वारा ही होता है ।

ई – मेल प्रणाली का तात्पर्य है — कम्प्यूटर की बातचीत ई – मेल पहले से प्राप्त टेलीफोन लाईनों के माध्यम से ही संचालित हो जाती है । इंटरनेट प्रणाली संचार क्रांति की नवीनतम प्रणाली है । जिसका अर्थ है ‘ ए विण्डो टू ग्लोबल इंटरनेशनल सुपर हाईवे ‘ अर्थात संचार की सूचनाओं का भारी भंडार ।

इसके जरिये संसार के किसी भी क्षेत्र की किसी भी प्रकार की जानकारी कम्प्यूटर का बटन दबाकर मॉनीटर पर घर बैठे हासिल की जा सकती है । यह संसार की सबसे बड़ी और सक्षम सूचना प्रणाली है जिसमें संसार के कम्प्यूटर परस्पर सूचनाओं का हस्तान्तरण कर रहे हैं ।

और पढ़े   [ UPSC FULL FORM ] UPSC की तैयारी कैसे करे ?

इंटरनेट सभी प्रकार के शैक्षिणिक , व्यावसायिक एवं मनोरंजक उपयोगों के प्रयोग में लाया जा रहा है । यह व्यवस्था तीव्र होने के साथ ही फैक्स की तुलना में सस्ती है । इंटरनेट सूचनाओं की सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए टेलीफोन बिल की भाँति इसका भी मूल्य देना पड़ता है ।

What Is Internet In Hindi – इंटरनेट क्या है

इंटरनेट प्रणाली क्या है ? इंटरनेट या सूचना राजपथ ऑप्टिकल फाइबर तारों से जुड़े कम्प्यूटरों का एक व्यापक नेटवर्क है , इसमें सूचनाओं , ध्वनियों , चित्रों , आवाजों एवं आँकड़ों आदि को प्रकाश की गति से भेजना सम्भव है । इंटरनेट प्रणाली की कार्य पद्धति काफी आसान है । यदि आपके पास अपना कम्प्यूटर है , तो उसे टेलीफोन लाइन से जोड़कर ऐच्छिक सूचना प्राप्त करने के लिए खोज ( Search ) कीजिए और कुछ ही समय बाद आपके कम्प्यूटर मॉनीटर पर ऐच्छिक सूचना या जानकारी संबंधी उत्तर आ जाएगा ,

इस प्रणाली में कम्प्यूटरों का एक जाल है । इस जाल को एक मुख्य कम्प्यूटर आपस में टेलीफोन लाइन के द्वारा जोड़ता है । यहाँ जोड़ने का कार्य जब टेलीफोन लाइन के बजाय आम तारों के द्वारा किया जाता है तो यह पद्धति नेटवर्किंग कही जाती है । कम्प्यूटर तथा टेलीफोन आपस में मोडम के जरिये जुड़े होते हैं । यह मोडम कम्प्यूटर के डिजिटल सिग्नल को टेलीफोन के मैग्नेटिक सिग्नल तथा मैग्नेटिक को डिजिटल सिग्नल में बदलता है ।

इस विधि में जोड़ा गया कम्प्यूटर जब किसी दूसरे कम्प्यूटर से सम्पर्क स्थापित करता है तो वह संदेश या सूचना को मूख्य कम्प्यूटर में भेजता है . तदुपरान्त मुख्य कम्प्यूटर उस सूचना को प्राप्त करने वाले कम्प्यूटर के मेल बॉक्स में प्रेषित कर देता है और वहाँ वह तब तक पड़ी रहती है

और पढ़े   Best Study Tips In Hindi - पढ़ाई में मन कैसे लगाए

जब तक प्राप्त करने वाला कम्प्यूटर उसे प्राप्त न कर ले क्योंकि इलेक्ट्रॉनिक मेल बॉक्स में पत्रपेटी की तरह लॉकिंग सिस्टम व उसका पता होता है । इलेक्ट्रॉनिक मेल के पते में कम्प्यूटर प्रयोगकर्ता का नाम एवं नेटवर्क का नाम शामिल होता है । यह व्यवस्था तभी सफल होती है जब दोनों कम्प्यूटर एक ही इलेक्ट्रॉनिक मेल सेवा से जुड़े हैं ।

उपयोग : इंटरनेट से जुड़े कम्प्यूटरों के मध्य तेज गति से आँकड़ों का सम्प्रेषण , इलेक्ट्रॉनिक अखबार पढ़ना , विश्व के किसी कोने से किसी भी व्यक्ति से बात करना , शेयर बाजारों पर नजर रखना , देश – विदेश के पुस्तकालयों में सम्पर्क रखना , विडियो कैसेट देखना व सुनना , मित्रों से सलाह व मशविरा करना , अपनी विचारधारा विश्व के सामने रखना तथा विभिन्न पत्रिकाओं का अध्ययन करना संभव है ।

इलेक्ट्रॉनिक मेल सेवा : यह कम्प्यूटर पर आधारित स्टोर एण्ड फारवर्ड संदेश प्रणाली है जिसमें प्रेषक और प्रेषित दोनों को एक साथ उपस्थित रहने की जरूरत नहीं होती है ।

इलेक्ट्रॉनिक मेल अधिक – से – अधिक लोकप्रिय होती जा रही है । क्योंकि यह कम्प्यूटर आधारित है और इसमें डाटा संग्रहण , पुनः प्राप्ति और संकलन करने की सुविधा है । इसके अलावा इसके द्वारा एक – सिरे से दूसरे सिरे तक और एक सिरे से कई सिरों तक डाटा भेजना सरल होता है । इलेक्ट्रॉनिक मेल अनुप्रयोग न केवल संदेश आदान – प्रदान तक सीमित है , बल्कि इन्हें इलेक्ट्रॉनिक डाटा इंटरचेंज ( ई ० डी ० आई ० ) सॉफ्टवेयर सुधार व स्टोर एण्ड फारवर्ड फैक्स जैसे अनुप्रयोगों तक भी विस्तारित किया जा सकता है ।

और पढ़े   Self Confidence Kaise badhaye - आत्मविश्वास बढ़ाने के उपाय

Update on May 10, 2021 @ 5:58 pm

Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "

Leave a Comment