fbpx

सच्चा दोस्त कौन होता है ? सच्चे दोस्त की पहचान कैसे करे

सच्चा दोस्त कौन होता है ?

दोस्ती ( friendship ) एक ऐसा रिश्ता है , जो कभी भी बन सकता है , किसी से भी यह रिश्ता हो सकता है , लेकिन यह रिश्ता विश्वास व भरोसे पर टिका होता है । दोस्ती के इस रिश्ते में उम्र की सीमा नहीं होती , इसलिए किसी से भी दोस्ती हो सकती है , लेकिन फिर भी दोस्ती ( friendship ) अधिकांशत : हमउम्र के लोगों में अधिक होती है । क्योंकि हमउम्र के लोग ही ऐसे हैं ,

जो पढ़ाई – लिखाई के दौरान विद्यालयों में प्रायः साथ होते हैं और ज्यादातर समय साथ रहते हैं । हमउम्र के लोगों की समस्या , विचारधारा व भावना को समझने में भी आसानी होती है , इसलिए हमउम्र के लोगों से दोस्ती होने की संभावना ज्यादा होती है ।

बहुत कम मित्रताएँ ऐसी होती हैं , जो निस्स्वार्थ होती हैं , अन्यथा अधिकांश तो ऐसी होती हैं , जो किसी – न – किसी लाभ के लिए या सहायता के लिए होती हैं । कहा भी जाता है कि सच्चा दोस्त वही है , जो मुसीबत के समय हमारे काम आए , और दोस्त की पहचान भी तब होती है कि जब हमारा मुश्किल समय होता है ।

सच्चा दोस्त कौन होता है ? सच्चे दोस्त की पहचान कैसे करे

सच्चा दोस्त कौन होता है मुश्किल समय में हमारे साथ कौन रहता है और कौन हमारा साथ छोड़कर चला जाता है , इससे हमारे रिश्तों की पहचान भी हो जाती है और हमारी दोस्ती की गहराई भी पता चल जाती है । दोस्ती उन्हीं से होती है , जिनसे हमारा मन मिलता है , जिनके विचार , व्यवहार हमें अच्छे लगते हैं , जो समय समय पर हमारा साथ देते हैं और हमारे साथ रहते हैं , उनसे प्रायः हमारी दोस्ती हो जाती है ।

और पढ़े   [ BPSC FULL FORM ] BPSC की तैयारी कैसे करे ?

सच्चे दोस्त की पहचान कैसे करे दोस्ती गहरी तब होती है , जब वह विपरीत परिस्थितियों से गुजरने पर भी खरी उतरती है । जहाँ गहरा विश्वास होता है , मन में अच्छा भाव होता है , वहाँ दोस्ती भी गहरी होती है । आजकल किशोरों व युवाओं में एक बेहद लोकप्रिय ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है – स्नैपचैट । स्नैपचैट के एक सर्वे से एक खास बात यह पता चली है कि दोस्ती में ईमानदारी को काफी अहमियत दी जाती है । रिपोर्ट में यह बताया गया कि जिनके पास कोई दोस्त नहीं होते , वे खुद को बहुत अकेला महसूस करते हैं और अपनों से भी कोई बात साझा ( Share ) करने में वे संकोच करते हैं ।

कई बार दूसरों से दोस्ती ( friendship ) न कर पाना अवसाद का कारण भी बन जाता है और स्थिति यहाँ तक पहुँच जाती है कि युवा इसके कारण अपनी जिंदगी को दाँव पर लगा बैठते हैं । मनोविशेषज्ञों का कहना है कि दोस्त मन के चिकित्सक जैसे होते हैं , जो मन के हर विरोधाभास को दूर करने में सहायक होते हैं । जिनके दोस्त होते हैं , वो अपने मन की बात उनसे साझा करके हलका महसूस करते हैं ,

लेकिन जिनके दोस्त नहीं होते और जो न दोस्त बनाते हैं , उनके मन की बात मन में ही रह जाने से वे मनोग्रंथियों से ग्रसित होने लगते हैं । जिस तरह नदियों का जल प्रवाहपूर्ण होने के कारण शुद्ध होता है , तो वहीं तालाब का पानी एक जगह रहने के कारण दूषित होने लगता है- तरह यदि मन की बातें साझा होती हैं तो मन हलका होता है , निर्मल होता है , इससे मन की परेशानियाँ भी दूर होती हैं ।

वहीं यदि मन की बातें किसी से साझा नहीं होती , तो ऐसे मन वाले व्यक्ति बहुत परेशानियों से गुजरते हैं , उनका मन भारी होता है और मनोग्रंथियों से भी युक्त होता है । इसलिए बहुत जरूरी होता है कि मन की बातों को साझा किया जाए , चाहे वह किसी भी तरह से हो , चाहे किसी से बात करके हो या डायरी लिख करके हो या खुद से बातें करके हो ।

और पढ़े   आइजक न्यूटन की जीवनी - Isaac Newton Biography in Hindi

Who is True Friend in Hindi, Sacha dost in Hindi

देखा जाए तो सच्चा दोस्त एक मनोविशेषज्ञ से कम नहीं होता ; क्योंकि वो अपने दोस्त के मन की बात समझता है , अपने दोस्त के मन की परेशानियों को दूर करने उसकी सहायता करता है । उससे बात करके उसकी मनोग्रंथियों को खोलने में सहायता करता है और सबसे बड़ी बात दोस्त बनकर वह उसे ऐसा सहारा देता है । जिसके कारण मन में एक भरोसा होता है

एक खुशी होती है और व्यक्ति को अपने दोस्त के कारण ऐसा प्रतीत होता है कि वह अकेला नहीं है , बल्कि उसके दोस्त उसके साथ हैं । उसके साथ अपने दोस्तों का सहयोग है । इस एहसास के कारण व्यक्ति स्वयं को मानसिक रूप से पहले से ज्यादा सुरक्षित व ताकतवर महसूस करता है ।

कुछ अध्ययन यह बताते हैं कि स्कूल , कॉलेज व यूनिवर्सिटी में पढ़ने के दौरान दोस्ती अधिक होती है । भले ही यह दोस्ती थोड़े समय के लिए हो या ज्यादा समय के लिए हो , लेकिन यह दोस्ती व्यक्ति के मन में एक ऐसी अमिट छाप छोड़ देती है , जिसके कारण वह दोस्ती और दोस्त बनने वाला व्यक्ति हमेशा याद रहते हैं ।

जीवन की राहों पर अनेक व्यक्ति मिलते हैं और बिछड़ते हैं , लेकिन दोस्त वही बन पाते हैं और हमसे जुड़ पाते हैं जो हमें समझते हैं , जो सच्चे होते हैं और जो हमारा भला चाहते हैं ।

सच्चे दोस्त की पहचान

सच्चा दोस्त ( true friend ) हमें गलत रास्ते पर जाने से रोकते हैं और हमें सही दिशा की ओर जाने के लिए प्रेरित करते हैं , उनके प्रति हमारे मन में अच्छा भाव होता है और यही अच्छा भाव हमें दोस्ती के रूप में उपहार में मिलता है । एक अच्छा दोस्त वह व्यक्ति होता है , जो हमारे व्यक्तित्व के कारण हमारा मित्र होता है ।

और पढ़े   Blog Website Ko Google Ke First Page Par Rank कैसे करें?

एक अच्छा और सच्चा दोस्त Sacha dost हमारी समस्त अच्छाइयों और बुराइयों से अवगत रहते हुए हमसे प्रेम और स्नेह करता है । ऐसा दोस्त हमेशा हमारी भलाई के बारे में सोचता है । आमतौर पर हम उन लोगों को अपना मित्र बनाते हैं , जिनका साथ हमें आनंद देता है और प्रसन्नता का एक स्रोत प्रतीत होता है , जिनका साथ हमें खुद के बारे में अच्छा महसूस कराता है ।

जरूरी नहीं कि एक Sacha dost सदैव हमारी खुशी का कारण हो , यद्यपि एक अच्छा दोस्त सदैव हमारी भलाई में ही रुचि रखता है । संभव है कि वह हमें समय – समय पर हमारी बुराइयों और कमियों का आईना दिखाए , जिसके कारण हमें उसके प्रति अस्थायी नाराजगी भी हो , लेकिन देखा जाए तो वास्तव में एक सच्चा मित्र वही होता है , जो हमारा भला चाहता है , हमें गलत रास्ते पर जाने से रोकता है , हमारे दु : ख से दु : खी होता है और हमारी खुशी के साथ वह भी खुश होता है ।

उम्मीद करते है सच्चा दोस्त कौन होता है ? सच्चे दोस्त की पहचान कैसे करे यह जानकारी आपको पसंद आये और यदि पसंद आये तो इसे अपने सोशल मीडिया पर दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

इन्हे भी पढ़े :

Update on May 15, 2021 @ 6:50 am

Knowledgewap
Knowledgewap एक हिंदी ज्ञानवर्धक ब्लॉग है , जिसका उद्देश्य हर ज्ञानवर्धक जानकारी को यहाँ उपलब्ध करना है। आशा करते है आपको दी गयी जानकारी पसंद आये। " आपका दिन शुभ हो "